--Advertisement--

अनुरागी बनकर प्राप्त होता है भागवत महापुराण का जीवन दर्शन : पं. नितिन

Rohtak News - कथा व्यास पं. नितिन आचार्य ने कहा कि कलयुग में भी श्रीकृष्ण और सुदामा की मित्रता सबसे बड़ा उदाहरण है। इसमें प्रेरणा...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:20 AM IST
Rohtak News - anubhav is attained by the life philosophy of bhagwat mahapuraan pt nitin
कथा व्यास पं. नितिन आचार्य ने कहा कि कलयुग में भी श्रीकृष्ण और सुदामा की मित्रता सबसे बड़ा उदाहरण है। इसमें प्रेरणा के आध्यात्मिक और सांसारिक दोनों तरह के पहलू छिपे हैं। इसे समझने की जरूरत है। सत्संग और भागवत कथा का अनुरागी बनकर भागवत महापुराण में छिपे जीवन उपयोगी ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है। वे श्री राधा कृष्ण लीला समिति की ओर से मयूर पार्क जनता कॉलोनी में चल रही श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ में उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित कर रहे थे। इसके पूर्व आठवें दिवस की कथा स्वामी राघव देव महाराज के सान्निध्य में शुरू हुई। मुख्यातिथि देवेंद्र नारा रहे। कथा संयोजक जेपी गौड़ ने बताया कि रविवार को कथा की समाप्ति के मौके पर कवि सम्मेलन एवं कलश पूजन का आयोजन किया जाएगा। सामाजिक सद्भावना एवं समरसत्ता का संदेश दया गया। कथा में पूनम गोयल, आशा गर्ग, उमा गोयल, पं. लोकेश शर्मा, सतीश शर्मा व खत्री उपस्थित रहे।

रोहतक के भागवत कथा में राघव देव महाराज को सम्मानित करते कथा व्यास पं. नितिन आचार्य।

X
Rohtak News - anubhav is attained by the life philosophy of bhagwat mahapuraan pt nitin
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..