गुरुग्राम / जज की पत्नी और बेटे की हत्या के दोषी गनमैन को फांसी की सजा, 2018 की है वारदात

दोषी गनमैन महिपाल को कोर्ट लेकर जाते हुए पुलिस। दोषी गनमैन महिपाल को कोर्ट लेकर जाते हुए पुलिस।
13 अक्टूबर 2018 को गोली मारने के बाद ऐसे कार में डालने का किया था प्रयास।- फाइल 13 अक्टूबर 2018 को गोली मारने के बाद ऐसे कार में डालने का किया था प्रयास।- फाइल
जज के बेटे के सिर में मारी गई थी गोली। फाइल जज के बेटे के सिर में मारी गई थी गोली। फाइल
X
दोषी गनमैन महिपाल को कोर्ट लेकर जाते हुए पुलिस।दोषी गनमैन महिपाल को कोर्ट लेकर जाते हुए पुलिस।
13 अक्टूबर 2018 को गोली मारने के बाद ऐसे कार में डालने का किया था प्रयास।- फाइल13 अक्टूबर 2018 को गोली मारने के बाद ऐसे कार में डालने का किया था प्रयास।- फाइल
जज के बेटे के सिर में मारी गई थी गोली। फाइलजज के बेटे के सिर में मारी गई थी गोली। फाइल

  • 13 अक्टूबर 2018 को तब के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कृष्णकांत की पत्नी और बेटे की गोली मारकर कर दी थी हत्या
  • गुरुवार को गनमैन को दोषी करार दिया था, कोर्ट में बचाव पक्ष ने तर्क दिया था कि जज के बेटे से धक्का-मुक्की में गोली चली थी

दैनिक भास्कर

Feb 07, 2020, 05:46 PM IST

गुरुग्राम. जज की पत्नी और बेटे की हत्या के दोषी गनमैन महिपाल को शुक्रवार को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। महिपाल ने 13 अक्टूबर को 2018 को तब के गुरुग्राम जिला कोर्ट के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कृष्णकांत की पत्नी और बेटे के सर्विस रिवॉल्वर से गोली मारकर हत्या कर दी थी।

शुक्रवार को कोर्ट में सजा पर बहस हुई थी। पीड़ित पक्ष ने फांसी की सजा की मांग की थी, जबकि दोषी पक्ष ने कम से कम सजा देने की गुहार लगाई थी। इससे पहले गुरुवार को गुरुग्राम के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुधीर परमार की अदालत ने गनमैन को दोषी करार दिया था। 

बचाव पक्ष ने कहा था- धक्का-मुक्की में चली थी गोली

कोर्ट ने गनमैन महिपाल को आईपीसी की धारा 302, 201 व 27,54,59 आर्म्स एक्ट के तहत दोषी ठहराया। बचाव पक्ष के वकील ने दलील दी थी कि जज के बेटे ध्रुव के साथ गनमैन महिपाल की धक्का-मुक्की हो गई थी। ध्रुव ने रिवॉल्वर छीन ली थी। उससे रिवॉल्वर लेने के चक्कर में गोली चल गई, जिससे यह घटना हुई। इस पर कोर्ट ने कहा कि इसमें दुर्घटना वाली कोई बात नहीं है। वीडियो फुटेज, चश्मदीद व गवाहों के बयान से साफ पता चलता है कि दोषी ने इरादतन हत्या कर साक्ष्यों को मिटाने का भी प्रयास किया। यह गंभीर अपराध है।

सर्विस रिवॉल्वर से गनमैन ने दोनों पर फायरिंग की थी 

13 अक्टूबर 2018 को गुरुग्राम के तत्कालीन अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कृष्णकांत की पत्नी रितु व बेटा ध्रूव खरीदारी करने गए थे। खरीददारी कर वापस आए तो सुरक्षाकर्मी महिपाल कार के पास नहीं मिला। काफी देर बाद महिपाल आया तो मां-बेटे ने नाराजगी जताई। गुस्साए महिपाल ने सर्विस रिवॉल्वर से दोनों पर फायरिंग कर दी। गोली मारने के बाद गनमैन ने उन्हें कार में डालने की कोशिश की लेकिन जब नहीं डाल पाया तो वहीं छोड़कर फरार हो गया था। इस दौरान आसपास के लोगों ने इसका वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। यह सजा दिलाने में अहम सुबूत था।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना