बदमाश वारदातों को अंजाम देकर हो रहे फरार सीसीटीवी नहीं कर पा रहे वाहनों के नंबर कैप्चर

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के बढ़ते क्राइम ग्राफ में लूट और स्नेचिंग की घटनाओं की तादात काफी ज्यादा है। पुलिस रिकार्ड में अधिकतर वारदात अनट्रेस हैं। इनके पीछे पुलिस जो कारण गिनाती है। उसमें वारदात को लेकर सीसीटीवी कैमरों से कोई मदद न मिलने की बात प्रमुख होती है। दरअसल शहर में 90 प्वाइंट पर नगर निगम की ओर से सीसीटीवी कैमरे इंस्टॉल कराए गए थे। लेकिन इनमें से अधिकतर का विजन धुंधला है और कईयों का फोकस आंधी व अन्य कारणों से बिगड़ चुका है।

पुलिस की ओर से इस बारे में निगम को कई बार पत्र लिख कैमरों की लोकेशन व क्वालिटी सुधारने के लिए लिखा जा चुका है। लेकिन निगम की ओर से अभी इस बारे में कोई कार्रवाई आगे नहीं बढ़ी है। ऐसे में शहर में होने वाली कई वारदात पुलिस के लिए चुनौती बन जाती है। तीन दिन पहले गोहाना अड्डा पर कांग्रेस नेता की मां के साथ हुई लूटपाट की वारदात भी सीसीटीवी कैमरों की क्वालिटी के कारण सुलझ नहीं पा रही है।

दरअसल इस केस में पुलिस ने जब वारदात को लेकर सीसीटीवी कैमरों की फुटेज जांची तो उसमें संदिग्धों की गाड़ी तो नजर आ गई लेकिन फुटेज लो क्वालिटी की होने के कारण पुलिस गाड़ी का नंबर नहीं जान पाई।

कैमरों से वारदात की फुटेज मिली, पहचान किसी की नहीं हुई
सेक्टर 2 निवासी एलपीएस टू के मैनेजर विवेक शर्मा और रश्मि शर्मा के साथ 17 दिसंबर की रात डीसी आवास के सामने चौक पर वारदात हुई। दंपती जब सामान लेने थोड़ी दूर ही गया तो बदमाश कार में बैठी उनकी बेटी पिस्तौल दिखा कार से उतर गए और उनकी कार छीन ले गए। तीनों बदमाश स्कूटी पर वहां पहुंचे थे। पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरों में कैद हुई। शहर के कुछ रास्तों पर भी कार ट्रेस हुई। लेकिन सीसीटीवी कैमरों में न तो बदमाशों की स्कूटी का नंबर ट्रेस हुआ और न उनके चेहरे क्लियर हो पाए। विवेक शर्मा का कहना है कि संबंधित थाना की पुलिस ने उनकी फाइल को अनट्रेस कर एसपी ऑफिस में भेजा दिया है। कुछ दिनों बाद उनके केस को अनट्रेस घोषित करने की रिपोर्ट जारी हो जाएगी।

स्नेचिंग केस में आरोपी फुटेज में दिखे कभी पकड़े नहीं गए

10 अप्रैल को जगदीश कॉॅलोनी में डॉ. मोनिका भाटिया से स्नेचिंग हुई। बाइक सवार बदमाश उनका सोने का मंगलसूत्र तोड़ ले गए। जगदीश कॉॅलोनी में ही पीएनबी के मैनेजर ओपी अनेजा की बेटी हर्षिता के गले से चेन तोड़ ली थी। सेक्टर- 3 में सत्यम मॉल के पास से एक कारोबारी की प|ी के गले से चेन तोड़ ली थी। सेक्टर एक निवासी ज्योति के गले से स्नेचर चेन तोड़कर फरार हाे गया था। पुलिस ने इन वारदातों में शहर के छह किलोमीटर के दायरे के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली थी, मगर पुलिस बाइक के नंबर नहीं क्लियर हाे पाए।

अशोका चौक पर लगे कैमरे।

आदर्श नगर में हुई थी 42 लाख की चोरी

19 मार्च को चोरों ने आदर्श नगर में मदनलाल शर्मा के मकान से 42 लाख रुपए की नगदी चोरी कर ली थी। मदनलाल शर्मा एमडीयू में कार्यरत हैं। मदनलाल के घर पर उसके पड़ोसी सरदार रामसिंह हंस की प|ी अवतार कौर ने 40 लाख रुपए की नगदी से भरा बैग रखा था। मदनलाल जब किसी काम से बाहर गए तो कोई शख्स उनके घर से वो बैग चुरा ले गया। पुलिस ने गलियों से लेकर चौक चौराहे के सीसीटीवी कैमरे खंगाले। संदिग्ध इसमें नजर आए। लेकिन कई लोगों से पूछताछ के बाद भी पुलिस असली चोर नहीं ढूंढ पाई।

तीन महिलाओं ने ठगे थे बुजुर्ग महिला के कड़े

गाेहाना अड्डा पर 70 वर्षीय प्रेमकुमारी गाबा से कार सवार तीन महिलाओं समेत चार लाेग साेने के कड़े ठगे थे। पुलिस ने इस मामले में शहर में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली ताे गाड़ी के नंबर साफ नजर नहीं अा रहे। अब गाड़ी के नंबरों काे पुलिस की जांच अधर में लटक गई है।

पीजीआई से बच्चा चोरी मामला

पीजीआई से 2017 में बच्चा चोरी मामले में पुलिस ने मेडिकल मोड से लेकर दिल्ली बाईपास तक के सीसीटीवी कैमरे खंगाले, लेकिन कहीं पर भी पुलिस को कुछ क्लियर नहीं हो पाया। जिससे वारदात को अंजाम देने वाली पहचान हो सके।

खबरें और भी हैं...