पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नर्सों का आरोप-डॉक्टर मरीजों की जांच के लिए दबाव डाल रहे

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महम | गांव मदीना के सीएचसी में तैनात स्टाफ नर्स बुधवार को एसएमओ व एक डॉक्टर पर तंग करने के आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गई। नर्साें का आरोप है कि एसएमओ डॉ. जोगिंद्र और डॉ. मनोज सोनी उन्हें मरीजों की जांच करने को कहते है, यह उनका काम नहीं हैं। वहीं काम न करने पर उन्हें नौकरी से निकालने और ट्रांसफर की धमकी देते हैं। वहीं एसएमअो का कहना है कि नर्स काम से बचने के लिए आरोप लगा रही है। अस्पताल में ज्यादा मरीज भी भर्ती नहीं होते। धरने पर बैठी नर्सों को समर्थन देने के लिए नर्सिंग वेलफेयर एसोसिएशन की राज्य प्रधान संतोष मलिक भी पहुंची। साथ ही सूचना मिलने पर सीएमओ डॉ. अनिल बिरला ने धरने स्थल पर बैठी नर्सों से बातचीत की। सीएमओ ने नर्सों को उचित कार्रवाई करने तथा सभी मांगे मानने का आश्वास देकर धरना समाप्त करवाया।

नर्सों के साथ बातचीत करते सीएमओ अनिल बिरला।

नर्सों ने सुरक्षा की मांग की

सीएचसी में तैनात नर्सों ने कहा कि रात के समय अस्पताल में चौकीदार नही होने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ता है। रात के समय शराब पीकर शरारती तत्व अस्पताल में घुस जाते हैं। जिससे काम करने में समस्या होती है। इस बारे में उच्च अधिकारियों को लिखित में शिकायत भेजी जा चुकी हैं। उसके बावजूद समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। नर्सों की मांग पर सीएमओ अनिल बिरला ने जल्द सुरक्षा कर्मी तैनात करने का आश्वासन दिया।

एसएमओ ने किया अभद्र व्यवहार : नर्सिंग वेलफेयर एसोसिएशन की राज्य प्रधान संतोष मलिक ने कहा कि मदीना सीएचसी में तैनात स्टाफ नर्स पूनम ने फोन कर एसएमओ व एक अन्य डॉक्टर की ओर से परेशान करने की सूचना दी। सूचना मिलने के बाद अस्पताल जाकर एसएमओ से बातचीत करने का प्रयास किया तो उन्होंने जवाब देने की बजाय अभद्र व्यवहार करते हुए कमरे से बाहर निकाल दिया। मलिक ने कहा कि एसएमओ ने बुधवार को अस्पताल में तैनात नर्स पूनम व शकुंतला को अपने कमरे में बुलाया और मरीजों का बीपी चेक करने के लिए कहा। दोनों नर्सों ने इसका विरोध किया तो उन्हें लिखित में जवाब देने के लिए नोटिस जारी कर दिया। वहीं वेतन रोकने व ट्रांसफर करने की धमकी दी। मलिक ने कहा कि इससे पहले भी कई बार नर्सों के साथ ऐसा बरताव किया गया था। सीएमओ अनिल बिरला ने कहा कि एसएमओ व नर्सों के बीच चले रहे विवाद को आपसी सहमति से मामले का निपटान कर दिया गया है। नर्स कुछ बातों को लेकर परेशान थी। उनका समाधान कर दिया गया है। सभी एक साथ काम करने के लिए तैयार हैं।

खबरें और भी हैं...