पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेलवे स्टेशन के स्टालों पर बिल नहीं दिए जाने और गंदगी पर डीआरएम ने अफसरों को फटकारा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रेवाड़ी रेलवे सेक्शन का निरीक्षण करने निकले दिल्ली मंडल के डीआरएम बुधवार सुबह साढ़े 11 बजे के करीब रोहतक जंक्शन पर पहुंचे। यहां से ट्रेन का इंजन बदलने के दौरान करीब 40 मिनट का समय लगने का पता चलते ही डीआरएम एसके जैन एसी कोच से उतरकर स्टेशन परिसर का निरीक्षण करने चल दिए।

डीआरएम जैन को आगे जाते देख दिल्ली मंडल से आए एडीआरएम राजीव धनखड़, डीसीएम, क्रू कंट्रोलर ईश्वर, सीएमआई संजीव सहगल, एसएस यशपाल मीणा, आईओडब्ल्यू आरके अनेजा, अधिकारी और स्थानीय रेल प्रशासन के अफसर भी पीछे पीछे चल पड़े। डीआरएम जैन ने स्टेशन परिसर में साफ सफाई की व्यवस्था को जांचा। प्लेटफार्म व सर्कुलेटिंग एरिया में गंदगी व्याप्त रहने पर डीआरएम ने एसएस यशपाल मीणा से जवाब तलब किया। संतोषजनक जवाब न मिलने पर एसएस मीणा से नाराजगी जताई। इसके बाद खानपान स्टालों में उपभोक्ताओं को बिल दिए जाने के बारे में पूछताछ की। इस पर कर्मचारी बिल काटने के बारे में जवाब नहीं दे सके। लिहाजा डीआरएम ने सीएमआई संजीव सहगल को लापरवाही न बरतने की हिदायत दी। 40 मिनट तक चले निरीक्षण के बाद डीआरएम जैन दोपहर 12 बजे के बाद रेवाड़ी के लिए रवाना हो गए।

रेवाड़ी जाने के लिए राेहतक स्टेशन पर रुके डीआरएम, 40 मिनट तक स्टेशन पर चले निरीक्षण में मिली खामियां

रोहतक रेलवे स्टेशन पर स्टाल का निरीक्षण करते डीआरएम व अन्य।

मैसेज मिलने के बाद अधिकारी अलर्ट रहे

बुधवार सुबह रोहतक होते हुए रेवाड़ी की तरफ जाने के लिए डीआरएम के आगमन का मैसेज मंगलवार रात ही रेलवे स्टेशन प्रशासन को मिल गया था। इसकी वजह से रेल प्रशासन के अधिकारी रात से ही अलर्ट रहे। सुबह जल्दी ही स्टेशन परिसर की साफ सफाई कराने में एसएस व्यस्त रहे। आरपीएफ प्रभारी आरके ओझा की अगुवाई में जवाब स्टेशन परिसर के आसपास से खड़े वाहनों को हटवाने की कवायद करते रहे। प्लेटफार्म से रेहडिय़ां गायब रहीं। अधिकृत रेहड़ी ही प्लेटफार्म पर नजर आईं।

निर्माण कार्यों में लापरवाही नहीं बरती जाए

डीआरएम एसके जैन ने वीआईपी लॉंज का निरीक्षण करते हुए रेल प्रशासन के अधिकारियों को हिदायत दी कि वेटिंग हाॅल में चल रहे निर्माण कार्य को गुणवत्ता से कराने के लिए बेरिकेडिंग कराने के साथ ही गुणवत्ता से समझौता न किया जाए। रेलवे के डीआरएम और एडीआरएम के निरीक्षण के दौरान जीआरपी और आरपीएफ की अोर से स्टेशन परिसर से सभी वाहनों को हटवा दिया था। जैसेे ही अधिकारी स्टेशन से रवाना हुए वैसे ही स्टेशन परिसर में एक बार फिर से कब्जा जमा लिया।

खबरें और भी हैं...