पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rohtak News Haryana News Glaucoma Awareness Week Will Be Observed At The Institute Of Ophthalmology From Today To March 14

नेत्र रोग चिकित्सा संस्थान में अाज से 14 मार्च तक मनाया जाएगा ग्लूकोमा अवेयरनेस वीक

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

विश्व ग्लूकोमा डे के अवसर पर पीजीआई के क्षेत्रीय नेत्र रोग चिकित्सा संस्थान में आठ से 14 मार्च तक अवेयरनेस वीक मनाया जाएगा। ग्लूकोमा यूनिट की हेड डॉ मनीषा राठी हेड, डॉ सुमित सचदेवा व अन्य नेत्र रोग विशेषज्ञों की टीम एक सप्ताह तक विभिन्न प्रकार की एक्टीविटीज के जरिए मरीजों को काला मोतिया रोग से बचाव व उनके अत्याधुनिक इलाज के प्रति जागरुक करेंगे। वरिष्ठ नेत्र रोग चिकित्सक डॉ. सुमित सचदेवा ने बताया शुक्रवार को बताया कि अवेयरनेस वीक के अंतर्गत 40 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को जिन्हें डायबिटीज, चश्मे का नंबर ज्यादा होने और परिवार में किसी की हिस्ट्री में काला मोतिया रहा है, ऐसे मरीजों को इलाज के बारे में जागरुक किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रतिवर्ष 1200 के करीब काला मोतिया रोग से पीड़ित मरीज संस्थान में उपचार कराने के लिए पहुंच रहे हैं। पिछले तीन सालों में ग्लूकोमा से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ी है। आठ सौ पुराने केस हैं और चार सौ नए केस प्रतिवर्ष सामने आ रहे हैं। उपचार में लेजर विधि से सर्जरी और दवाएं उपलब्ध हैं। रीजनल नेत्र रोग इंस्टीट्यूट में फंडस कैमरा लाया गया है, इसके जरिए आंखों के पुतली फैलाए बिना परदे की जांच कर सकते हैं। अभी तक मरीजों की आंख के परदे की जांच करने से आधा घंटा पहले दवा डालते थे। लेकिन अब फंडस कैमरा आ जाने से नेत्र रोगियों के आंखों के परदे की जांच के लिए दवाएं नहीं डालनी पड़ती है। काला मोतिया के मरीज की आंख में एंगल नैरो होते हैं इनमें दवा डालने से काला मोतिया फटने का खतरा रहता है। लेकिन फंडस कैमरे के जरिए जांच करने में यह खतरा नहीं रहता है।

खबरें और भी हैं...