• Hindi News
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rohtak News haryana news in the hands of children in the hands of vehicles steering of vehicles action in 14 months of 5 months is still not alert parents

प्रदेश में बच्चों के हाथों में वाहनों के स्टेयरिंग, 5 माह में 1459 पर कार्रवाई फिर भी सचेत नहीं हैं पेरेंट्स

Rohtak News - सुशील भार्गव | राजधानी हरियाणा ड्राइविंग सही है तो खुद सलामत हैं और दूसरे भी महफूज। रफ ड्राइविंग है तो न खुद...

Jul 14, 2019, 08:30 AM IST
Rohtak News - haryana news in the hands of children in the hands of vehicles steering of vehicles action in 14 months of 5 months is still not alert parents
सुशील भार्गव | राजधानी हरियाणा

ड्राइविंग सही है तो खुद सलामत हैं और दूसरे भी महफूज। रफ ड्राइविंग है तो न खुद सलामत और दूसरे की जान पर भी आफत। ऐसा ही आजकल हरियाणा में हो रहा है। पेरेंट्स अपने बच्चों को वाहनों के स्टेयरिंग थमाने में शान समझते हैं, लेकिन यह बड़ा खतरा है।

पिछले पांच महीने में पुलिस ने प्रदेश में ऐसे 1459 अंडर एज वाहन चालकों के चालान किए हैं। लेकिन चालान इसका हल नहीं है। पेरेंट्स को अपनी मानसिकता बदलनी होगी। जब बच्चों को वाहन थमाएंगे तो हादसे भी होंगे। ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं होगा। एनसीआर के जिलों में चार पहिया वाहनों पर ब्लैक फिल्म लगाकर चलने के फेर में 4301 पकड़े गए हैं। जबकि वाहन चलाते समय धूम्रपान करने के आरोप में 2535 पकड़े गए हैं। इनमें सबसे अधिक आंकड़ा गुड़गांव का कहना है। वहीं लाल व नीली बत्ती का माेह भी नहीं छूट रहा और ऐसा करने वाले 46 वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई है।

सोनीपत में 16 और गुड़गांव में 14 ऐसे वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई है जो बत्ती लगाकर वाहन चला रहे थे। दस्तावेज दिखाने को कहा तो कुछ नहीं मिला। वाहन चलाते समय स्मोकिंग करना भी नहीं छोड़ रहे। एक जनवरी से 31 मई तक प्रदेश में 2535 ऐसे वाहन चालकों के चालान किए गए हैं जो स्मोकिंग करते पकड़े गए। इनमें सबसे अधिक 835 गुड़गांव व 490 हिसार में पकड़े गए हैं। रेवाड़ी में 274, करनाल में 112 लोगों को पकड़ा गया है। प्रदेश में गलत ड्राइविंग का प्रचलन भी बढ़ रहा है। प्रदेशभर में पांच महीने में ही 75380 वाहन चालकों के चालान हुए हैं, लेकिन फिर भी गलत ड्राइविंग का सिलसिला नहीं रुक रहा। गुड़गांव में सबसे अधिक 23669, फरीदाबाद में 6652, झज्जर में 5493, पंचकूला में 4595, पानीपत में 7610, हिसार में 3342, सोनीपत में 3397, भिवानी में 2884 वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई है। ट्रैफिक विभाग ने आईजी डॉ. राजश्री सिंह ने कहा कि हमें नियमों का पालन करना चाहिए।

पानीपत-सोनीपत में कम उम्र के चालक अधिक : पानीपत, सोनीपत और रोहतक के अलावा गुड़गांव व फरीदाबाद में माता-पिता अपने बच्चों को सबसे अधिक वाहन चलाने की इजाजत दे रहे हैं। एक जनवरी से 31 मई तक करीब 1459 अंडर ऐज को वाहन चलाते पकड़ा गया है। अकेले पानीपत जिले में पिछले पांच माह में 135, सोनीपत में 223, रोहतक में 119, गुड़गांव में 184 और फरीदाबाद में 157 बच्चे अंडर एज के कारण वाहन चलाते पकड़े गए हैं। करनाल में 86, हिसार में 66, सिरसा में 67 और पलवल में 65 और मेवात में 75 के चालान किए गए हैं।

सुशील भार्गव | राजधानी हरियाणा

ड्राइविंग सही है तो खुद सलामत हैं और दूसरे भी महफूज। रफ ड्राइविंग है तो न खुद सलामत और दूसरे की जान पर भी आफत। ऐसा ही आजकल हरियाणा में हो रहा है। पेरेंट्स अपने बच्चों को वाहनों के स्टेयरिंग थमाने में शान समझते हैं, लेकिन यह बड़ा खतरा है।

पिछले पांच महीने में पुलिस ने प्रदेश में ऐसे 1459 अंडर एज वाहन चालकों के चालान किए हैं। लेकिन चालान इसका हल नहीं है। पेरेंट्स को अपनी मानसिकता बदलनी होगी। जब बच्चों को वाहन थमाएंगे तो हादसे भी होंगे। ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं होगा। एनसीआर के जिलों में चार पहिया वाहनों पर ब्लैक फिल्म लगाकर चलने के फेर में 4301 पकड़े गए हैं। जबकि वाहन चलाते समय धूम्रपान करने के आरोप में 2535 पकड़े गए हैं। इनमें सबसे अधिक आंकड़ा गुड़गांव का कहना है। वहीं लाल व नीली बत्ती का माेह भी नहीं छूट रहा और ऐसा करने वाले 46 वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई है।

सोनीपत में 16 और गुड़गांव में 14 ऐसे वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई है जो बत्ती लगाकर वाहन चला रहे थे। दस्तावेज दिखाने को कहा तो कुछ नहीं मिला। वाहन चलाते समय स्मोकिंग करना भी नहीं छोड़ रहे। एक जनवरी से 31 मई तक प्रदेश में 2535 ऐसे वाहन चालकों के चालान किए गए हैं जो स्मोकिंग करते पकड़े गए। इनमें सबसे अधिक 835 गुड़गांव व 490 हिसार में पकड़े गए हैं। रेवाड़ी में 274, करनाल में 112 लोगों को पकड़ा गया है। प्रदेश में गलत ड्राइविंग का प्रचलन भी बढ़ रहा है। प्रदेशभर में पांच महीने में ही 75380 वाहन चालकों के चालान हुए हैं, लेकिन फिर भी गलत ड्राइविंग का सिलसिला नहीं रुक रहा। गुड़गांव में सबसे अधिक 23669, फरीदाबाद में 6652, झज्जर में 5493, पंचकूला में 4595, पानीपत में 7610, हिसार में 3342, सोनीपत में 3397, भिवानी में 2884 वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई है। ट्रैफिक विभाग ने आईजी डॉ. राजश्री सिंह ने कहा कि हमें नियमों का पालन करना चाहिए।

सोनीपत-रोहतक-झज्जर में ब्लैक फिल्म का प्रयोग ज्यादा

5 माह में सोनीपत में 322, रोहतक में 304, झज्जर में 471 वाहन चालक ब्लैक फिल्म लगाकर वाहन चलाते पकड़े। सबसे अधिक गुड़गांव में 1459 व फरीदाबाद में 626 सामने, रेवाड़ी में 161 और नारनौल में 175 वाहन चालक पकड़े।

करनाल-गुड़गांव में वाहन चलाते समय मोबाइल का अधिक प्रयोग

करनाल और गुड़गांव दोनों ऐसे शहर हैं, जहां वाहन चलाते समय सबसे अधिक मोबाइल का प्रयोग किया जाता है। पुलिस ने पांच माह में करनाल में ऐसे 501 वाहन चालकों के चालान किए हैं, वहीं गुड़गांव में 974 के चालान किए गए हैं। फरीदाबाद में 425, रोहतक में 384, सोनीपत में 313, रेवाड़ी में 199 लोगों को वाहन चलाते समय मोबाइल प्रयोग करने पर चालान का सामना करना पड़ा है।

X
Rohtak News - haryana news in the hands of children in the hands of vehicles steering of vehicles action in 14 months of 5 months is still not alert parents
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना