• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Rohtak News haryana news not only humans even dogs and monkeys will not let them go hungry giving milk and bread in the morning and evening

इंसान ही नहीं कुत्ते-बंदरों को भी भूखा नहीं सोने देंगे, सुबह-शाम दे रहे दूध-रोटी

Rohtak News - कोरोना वायरस महामारी की वजह से जहां इंसानों के सामने रोजी-रोटी का संकट आ खड़ा हुआ है, वहीं बेजुबान भी रोटी को तरस...

Apr 07, 2020, 08:25 AM IST

कोरोना वायरस महामारी की वजह से जहां इंसानों के सामने रोजी-रोटी का संकट आ खड़ा हुआ है, वहीं बेजुबान भी रोटी को तरस रहे हैं। शहर की सड़कों पर रहने वाले कुत्तों और गाेवंशों को पहले समाजसेवी आते-जाते हुए रोटी डाल दिया करते थे, लेकिन अब लॉकडाउन की वजह से उनका निकलना कम हो गया है। ऐसे में कुछ समाजसेवियों ने इन बेजुबानों के लिए रोटी का प्रबंध करने की पहल की है।

कुत्ते और बंदरों के लिए स्पेशल 200 रोटी रोजाना बनवाते हैं, फल भी देते हैं

पूर्व पार्षद राजबीर सैनी और पुनीत जैन ने बेजुबान कुत्ते व बंदरों को भूखा न रहने देने की ठानी है। वे रात को एक कुक से स्पेशल 200 रोटी बनवाते हैं। सुबह 5 बजे जींद चौक से होते हुए किलोई मंदिर तक कुत्तों व बंदरों को रोटी खिलाई जाती है। राजबीर सैनी ने कहा कि इंसान तो मांगकर खा लेता है, लेकिन ये तो मांग भी नहीं सकते। बंदरों को फल और चूरमा भी खिलाया जाता है।

छात्रों ने भी बेजुबानों को दूध पिलाने की पहल की

महाजन पड़ाव निवासी छात्र प्रिंस गोयल, आदित्य बंसल, साहिल गोयल और अनीष जिंदल लॉकडाउन में सड़कों पर जाकर कुत्तों को दूध पिला रहे हैं। छात्रों ने बताया कि उन्हें महसूस हुआ कि प्रशासन इंसानों के लिए तो खाने का प्रबंध कर रहा है, लेकिन बेजुबानों की तरफ अधिकतर लोगों का ध्यान नहीं है। इसलिए अपनी बचत से जानवरों को दूध पीला रहे हैं।

दिनभर जरूरतमंद लोगों को बांटते हैं राशन, रात में बेजुबानों की करते हैं सेवा

डीएलएफ कॉलोनी वासी रोहित, सोनू और अजय ने बताया कि वे तीनों कारोबारी हैं। इस संकट की घड़ी में दिनभर तो जरूरतमंदों की मदद के लिए राशन बांटते हैं। रात के समय तीनों करीब 10 बजे अपने घर से अपनी स्कूटी लेकर निकलते हैं। करीब ढाई बजे तक 20 प्वाइंट पर कुत्तों को रोटी खिलाते हैं और दूध पिलाते हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना