पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Sampla News Haryana News Railway Gate Near Kharawad Station Will Move Half A Km Ahead Of September Relief From Jam

खरावड़ स्टेशन के पास बना रेलवे फाटक सितंबर से आधा किमी आगे खिसकेगा, जाम से मिलेगी राहत

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गांव खरावड़ में रेलवे स्टेशन की पश्चिमी दिशा में बना रेलवे फाटक 48 सी 2 एटी को रेलवे विभाग 31 अगस्त से बंद कर दिया जाएगा। फाटक 48 को यहां से 500 मीटर आगे बनाया जा रहा है। इसका लगभग 50 प्रतिशत काम भी पूरा हो चुका है। रेलवे विभाग की ओर से 31 अगस्त तक फाटक का कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। नया फाटक शुरू होने के बाद ग्रामीणों को मालगाड़ियों के कारण लगने वाले जाम से राहत मिलेगी। पहले यहां पर मालगाड़ियों और सवार गाड़ियों को रोका जाता था। जिस कारण गांव खरावड़ से कारौर, भंभेवा, शिमली, डीघल की तरफ जाने वाले वाहन चालकों को घंटों गेट पर खड़ा रहने पड़ता था। अब गेट नंबर 48 आगे बनाए जाने से वाहन चालकों को राहत मिलेगी। वहीं बुजुर्गों ने फुट ओवरब्रिज बनाने की मांग की है। सरपंच बिजेंद्र सिंह का कहना है कि पंचायत प्रतिनिधि मंडल ने करीब 4 माह पहले रेलवे के चीफ इंजीनियर से मुलाकात कर गेट नंबर 48 सी से हो रही ग्रामीणों को परेशानी से अवगत कराया था। इसके बाद रेलवे ने गेट को करीब 500 मीटर अस्थल बोहर की तरफ शिफ्ट करने का काम शुरू किया। हालांकि गेट शिफ्ट होने से वाहन चालकों, खेत में बुग्गी या ट्रैक्टर से आवागन करने वाले लोगों को ही राहत मिलेगी। उन्होंने चीफ इंजीनियर से फुट ओवरब्रिज बनाने की भी मांग की थी।

सांपला के गांव खरावड़ में फाटक बंद हाेने पर पानी लाती महिलाएं और मालगाड़ी के ठहराव होने पर ट्रेन के नीचे से निकलती महिला।

ट्रैक के दूसरी ओर बना है कुआं

86 वर्षीय सरला देवी का कहना है कि महिलाओं को पीने का पानी लाने के लिए रेलवे लाइन पार करके जाना होता है। रेलवे ट्रैक के दूसरी तरफ पीने के पानी का कुआं बना हुआ है। अक्सर मालगाड़ी रेलवे स्टेशन के पास खड़ी रहती है। वहीं खेतों में रोजमर्रा के कार्य भी ज्यादातर महिलाओं को ही करना पड़ता है। रोजमर्रा के कार्य करने के लिए महिलाएं जान जोखिम में डाल गाड़ी के नीचे से गुजरती हैं। गेट शिफ्ट होने से करीब एक किलोमीटर अतिरिक्त चलना पड़ेगा। फुट ओवरब्रिज विभाग बनाया जाए तो महिलाओं को काफी राहत मिलेगी।

मालगाड़ी का ठहराव नहीं होगा रेलवे के एसएससी कपिल कुमार का कहना है कि पुराने गेट को 31 अगस्त के बाद स्थाई रूप से बंद कर दिया जाएगा। आवागमन के लिए सितंबर से नए गेट को खोला जाने की उम्मीद है। सिविल वर्क करीब पूरा हो गया है। बाकि पेंडिंग वर्क पर इलेक्ट्रिक, इंजीनियरिंग सहित अन्य विंग लगातार काम कर रही है। नया गेट चालू होने से वाहन चालकों को लाभ होगा। कारण जहां नया गेट बनाया जा रहा है, वहां पर अप एंड डाउन दो ही ट्रैक बने हुए है। जिस कारण मालगाड़ी का ठहराव नहीं हो सकेगा और गेट जल्दी खुलेगा।

सांपला के खरावड़ स्टेशन से अस्थल बोहर की ओर बनाया गया फाटक के लिए बिन।

पहले हो चुके हादसे, ओवरब्रिज बनाया जाए

58 वर्षीय रणबीर का कहना है कि खेतों में बैल बुग्गी या ट्रैक्टर से आवागमन करने वालों को नया गेट चालू होने से फायदा होगा। लेकिन पैदल खेतों में या पनघट पर जाने वाली महिलाओं को रेलवे ट्रैक पर अक्सर खड़ी रहने वाली मालगाड़ी को जान जोखिम में डालकर ही पार करना होगा। इतना ही नहीं ट्रैक पर हाई स्पीड ट्रेन भी चलती है। कोई भी पैदल यात्री कभी भी हादसे का शिकार हो सकता है। पहले भी ट्रैक पार करते समय हादसे हो चुके हैं। इस समस्या को देखते हुए फुट ओवरब्रिज बनाया जाए।

खबरें और भी हैं...