पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खुद को साबित करने की जिद, घरेलू महिलाओं ने चुनी ऑनलाइन बिजनेस की राह

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

“खुद से जीतने की जिद है, मुझे खुद को ही हराना है...’’, “मैं भीड़ नहीं हूं दुनिया की, मेरे अंदर एक जमाना है...’’। जो महिलाएं घर चला सकती हैं, वह कंपनी भी बखूबी चला सकती हैं। यह केवल उदाहरण नहीं है, जो 21वीं सदी में बार-बार साबित हो रहा है। यह मल्टीनेशनल कंपनियां, नेटवर्किंग के साथ ऑनलाइन बिजनेस क्षेत्र में बढ़ती आधी आबादी की संख्या बयां कर रही है कि “स्त्री से ही घर, स्त्री से ही दफ्तर और स्त्री से ही बिजनेस’’। इंजीनियरिंग-एमबीए करने के बाद शादी कर चूल्हा-चौका संभालना गंवारा नहीं था, ना ही पैसा जरूरी था लेकिन खुद को साबित करना था। ऐेसे में बच्चों की जिम्मेदारियों के चलते ऑनलाइन बिजनेस शुरू किया। सिर्फ 1700 रुपए से शुरू किया स्टार्टअप अब लाखों की कमाई दे रहा है। खुद के पैर मजबूत किए तो दूसरों का भी सहारा बन रोजगार देने लगी। ये हैं हमारे शहर का वो ताज, जिन्हें आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर दैनिक भास्कर रूबरू कराने जा रहा है।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

स्कूटी चलाना नहीं जानतीं थी, तब 6 महीने की बेटी को साथ ले रिक्शा पर जाकर करती थी मार्केटिंग

10 साल पहले शादी कर दिल्ली से रोहतक आई, तब एचडीएफसी बैंक के लोन विभाग में मैनेजर थी। नौकरी छोड़ी, एक साल में सास-ससुर का निधन हो गया। सास छोड़कर गई, तब बेटी रुहानी 10 दिन की थी। परेशान रहने लगी तो खुद को बिजी करने के लिए काम करने की सोची। याद है मुझे घर में ही एक छोटे से स्टूल पर 1700 रुपए का कॉस्मेटिक सामान रख बेचना शुरू किया था। सामान बिका तो कुछ अाैर करने का जज्बा आया। घर के बाहर ही दुकान खोली, दो कॉस्मेटिक प्रोडक्ट की फ्रेंचाइजी ली। जब तक स्कूटी चलाना नहीं जानती थी। तब 6 महीने की बेटी को रिक्शा पर लेकर ब्यूटी पॉर्लर में जाकर मार्केटिंग की। ऑनलाइन बिजनेस का जमाया आया तो सोशल साइट्स पर ग्रुप बनाया, शॉपिंग साइट्स पर रजिस्ट्रेशन किया। मुनाफा पहले से कई गुणा बढ़ा और आज घर पर रहकर ही महीने का 50 हजार रुपए तक कमा लेती हूं। काम करते हुए 9 साल हो गए हैं। इसके साथ हैंडमेड फूलाें की ज्वेलरी बनानी भी शुरू की। काम बढ़ा तो रोजगार दिया। इन सब में लाइफ पार्टनर ने बहुत स्पोर्ट किया।
- ऋतु गुप्ता, कॉस्मेटिक एंड ज्वेलरी बिजनेस।

10 साल टीचिंग की, पति का बिजनेस संभाला और फिर खुद का आर्ट एंड क्राफ्ट में किया स्टार्टअप

शादी को नवंबर में 25 साल होने वाले है और काम करते हुए 21 साल। पहले मायके में घर पर ही कुकिंग, डांस और आर्ट एंड क्राफ्ट की क्लास देती थी, फिर शादी के बाद स्कूल में 10 साल टीचर की जॉब की। इतना सब करने के बाद भी खुद में कहीं अधूरापन महसूस कर रही थी। इस बीच एक साल पति का इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स का बिजनेस संभाला, पर खुद का कुछ करना था इसलिए 1 साल का गैप लिया। 7 साल पहले खुद की आर्ट एंड क्राफ्ट अकादमी खोली। दो साल अकेले ही काम किया। बच्चों के स्कूल से घर पहुंचने से पहले खुद ही 10 मिनट पहले मैं भी पहुंचती, फिर काम पर भी लौटती। ये सब मुश्किल भरा था, लेकिन किया। नया सीखा और सिखाया भी। ऑनलाइन मार्केटिंग के लिए सेल साइट्स से जुड़ी। काम बढ़ा तो 5 कर्मचारी रखे और आज 10 से 12 लाख रुपए सालाना कमा रही हूं। प्रॉडक्ट्स में बिजनेस फंडा हमेशा फ्री होम डिलीवरी का रखा। एक औरत का जिंदगी में खुश रहना बहुत जरूरी है। जब जिम्मेदारियां पूरी हो जाएं तो खुद की हॉबी को समय दें। स्ट्रेस सब की लाइफ में है, इसलिए बिजी रखना ही हैप्पी टॉनिक है। -सोनिया भुटानी, आर्ट एंड क्राफ्ट बिनजेस।

घर से शुरू किया हैंडीक्राफ्ट का काम, आज है शोरूम और ऑनलाइन देती हैं क्लास

कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है, पर खुद में छिपे हुए टैलेंट का मुश्किल परिस्थितियों में ही पता चला। साल 2017 में घर से ही हैंडीक्राफ्ट का बिजनेस शुरू किया। फिर सोशल साइट्स पर पेज और ग्रुप बनाया, लोग पता पूछने लगे तो खुद का एक शोरूम खोला। आज के जमाने में पैसा उतना मायने नहीं रखता है, जितनी एक औरत की खुद की अलग पहचान। महिला-पुरुष में अलग कुछ नहीं है, बस समाज ने ही पैमाने तय कर रखे हैं। मैं आज ऑनलाइन हैंडीक्राफ्ट की क्लास भी दे रही हूं, सामान भी बेचती हूं और वेडिंग के साथ बर्थ-डे इवेंट प्लानर भी हूं। अपना दायरा बढ़ा रही हूं तो इससे दूसरों को रोजगार भी मिल रहा है। अभी तीन कर्मचारी हैं और बिजनेस का सालाना 10 लाख रुपए का टर्नओवर है। अब मैं लड़कियों और महिलाओं के लिए एक एनजीओ खोलना चाहती हूं। उन्हें जैसी भी सहायता चाहिए, कुछ सीखना हो या काउंसिलिंग करनी हो वह करूंगी।
- विदुषी विज, वेडिंग-बर्थ डे प्लानर एंड हैंडीक्राफ्ट बिजनेस।

सुविधा नहीं जोखिम चुना, आज वुमन एम्पावरमेंट की हैं मिसाल, इनकी सक्सेस का मंत्रा- घर चला सकती हैं तो कंपनी भी चलाएंगी
खबरें और भी हैं...