त्योहारी सीजन में मिलावटी मिठाइयों पर छापा मारने के लिए टीम तैयार

Rohtak News - दीपावाली का त्योहार नजदीक आते ही मिठाई सहित अन्य खाद्य सामग्री के सैंपल लेने के लिए फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:41 AM IST
Rohtak News - haryana news team ready to raid adulterated sweets in festive season
दीपावाली का त्योहार नजदीक आते ही मिठाई सहित अन्य खाद्य सामग्री के सैंपल लेने के लिए फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने दुकानों पर छापेमारी करनी शुरू कर दी है। यह अभियान छठ पूजा तक चलेगा। वर्ष 2016 से वर्ष 2019 के अक्टूबर माह तक फूड सेफ्टी टीम ने गुणवत्ताहीन खाद्य सामग्री की बिक्री होने के संदेह में 346 सैंपल भरकर चंडीगढ़ लैब में टेस्टिंग के लिए भेजे। लैब से मिली सैंपल रिपोर्ट में 286 नमूने मानकों पर खरे पाए गए जबकि 60 सैंपल फेल हो गए। कोर्ट ने दुकानदारों व कारोबारियों पर तीन लाख 79 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। विभाग के उच्चाधिकारी आगे और भी बड़े दुकानदारों के मिलावटी सामान बेचने की शिकायत पर छापा मारने की प्लानिंग बनाने में जुटे हैं। त्योहार से पहले बड़े स्तर पर छापेमारी का दावा किया जा रहा है।

वर्ष दर वर्ष टीम ने यूं मारे छापे

वर्ष 2016
में घी के 4, पेय पदार्थ के 16, मसाला के 4, तेल के 6, मिठाई के 30, दूध के 8, नमक के 6, पनीर के 6, चाय के 8 और बेसन के 8 सहित औसतन 89 सैंपल भरे गए। इनमें 12 नमूने फेल मिले जिन पर कोर्ट ने 97 हजार रुपए जुर्माना लगाया।




सांपला के हसनगढ़ में एक दुकान पर सैंपल भरती टीम। फाइल फोटो।

फेस्टिव सीजन में टीम बनाकर कार्रवाई का बनाया गया है प्लान


4 साल में टीम की मिठाई और दूध की दुकानों पर रही नजर

चार साल के आंकड़े बताते हैं कि जिला फूड सेफ्टी आफिसर की अगुवाई में टीम की नजर दूध व मिठाई की बिक्री करने वाली दुकानों पर ज्यादा रही। यही वजह है कि वर्ष 2016 से 2019 के अक्टूबर माह तक औसतन दूध के 75, मिठाई के 112 व घी के 22 नमूने लिए गए। वहीं पनीर के 21, पेय पदार्थ के 20, चाय के 15 और तेल के 20 नमूने भरे गए।

मानकों के उल्लंघन पर दर्ज करा सकते आपराधिक केस

फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी आफ इंडिया के अंतर्गत डेयरी उत्पाद, तेल और वसा, फल और सब्जी उत्पाद, अनाज और मांस उत्पाद, मछली उत्पाद, मिठाई, नमक, मसालों और संबंधित उत्पाद और पेय पदार्थ आते हैं। एफएसएसएआई इन खाद्य पदार्थों के मानदंड का निर्धारण कर ये सुनिश्चित करती है कि उन उत्पादों का उत्पादन उसके द्वारा बनाई गई गाइडलाइंस के अनुसार हो और वो लोगों के सेहत के अनुकूल हो। मानकों का उल्लंघन कर खाद्य सामग्री का निर्माण पाए जाने की पुष्टि होने पर एफएसएसएआई के अधिकारी उक्त व्यक्ति के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करा सकते हैं।

X
Rohtak News - haryana news team ready to raid adulterated sweets in festive season
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना