हनीट्रैप / गिरफ्तार फौजी के मोबाइल से मिले कई संदिग्ध नंबर



HoneyTrap: Many suspicious numbers found from arrested Army Corp's mobile
X
HoneyTrap: Many suspicious numbers found from arrested Army Corp's mobile

  • विदेशी महिला को सैन्य यूनिट की लोकेशन और राइफल की फोटो की थी फेसबुक पर शेयर
  • 2 दिन की रिमांड के बाद कोर्ट में पेश करेगी पुलिस, बढ़ सकती है अवधि

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 06:47 AM IST

महेंद्रगढ़ (आनंद शर्मा). हनीट्रैप में फंसकर विदेशी महिला को सैन्य यूनिट की लोकेशन और राइफल की फोटो शेयर करने के मामले में शनिवार को पुलिस आरोपी फौजी रविंद्र को कोर्ट में पेश करेगी। पुलिस का कहना है कि आरोपी ने 2 दिन के रिमांड में कोई खास जानकारी नहीं दी है। पुलिस कोर्ट से आरोपी को और रिमांड मांग सकती है।


पुलिस सूत्रों की मानें तो रविंद्र ने रिमांड के दौरान कोई विशेष जानकारी नहीं दी। पुलिस अधिकारियों ने राउंड ऑफ क्लॉक एक-एक घंटे का गेप देकर पूछताछ की। दूसरी ओर पुलिस साइबर टीम आरोपी से बरामद हुए 2 मोबाइल व 2 सिम के रिकाॅर्ड को भी खंगाला। पुलिस ने बताया कि दोनों मोबाइलों के सभी रिकाॅर्ड व सिमों की आउट व इनकमिंग कॉल की डिटेल में कुछ संदिग्ध नंबर मिले हैं।

 

अब टीम उन नंबरों की जांच में जुटी है। आरोपी रविंद्र गांव बसई का रहने वाला है। दूसरी तरफ आरोपी फौजी के सैन्य अधिकारियों को भी इस संबंध में जानकारी भेजी गई है। पुलिस उसके साथियों व अधिकारियों से भी फीडबैक लेने की तैयारी कर रही है। सेना के अधिकारी भी शनिवार को न्यायालय से रविंद्र को जांच के लिए अपने साथ ले जाने की डिमांड कर सकते हैं। इधर, पुलिस रिमांड अवधि बढ़ाने का प्रयास करेगी।

 

7 जिंदा कारतूस, 2 मोबाइल, 3 सिम कार्ड हुए थे बरामद
गिरफ्तारी के बाद रविंद्र को पुलिस ने जब गिरफ्तार किया और तलाशी ली थी तो उसके पास से 7 जिंदा राउंड व 2 मोबाइल और 3 सिम भी बरामद किए हैं। अब रिमांड के दौरान ही पता किया जाएगा कि ओर कौन-कौन इसमें शामिल है और किस-किस को जानकारियां दी गई हैं। जासूसी के आरोपी रविंद्र 5 कुमाऊँ रेजिमेंट में संबंध रखता है। पुलिस अधिकारियों ने उसकी रेजिमेंट के सैन्य अधिकारियों के उनकी गिरफ्तारी व उनके आरोपों के संबंध में जानकारी भेज दी है। पुलिस सूत्रों की मानें तो तो रविंद्र के रेजिमेंट के सैन्य अधिकारी शनिवार को नारनौल आ सकते हैं।

 

रविंद्र के परिवार का आपराधिक रिकॉर्ड नहीं

आरोपी रविंद्र के गांव के लोग इस घटना पर विश्वास नहीं कर रहे हैं। उनका मानना है कि रविंद्र की मां ने बड़े संघर्ष से उन्हें पाला है। सेना में भर्ती होने से पहले भी रविंद्र व उनके परिवार का कोई आपराधिक रिकाॅर्ड नहीं रहा है। गांव में सरपंच प्रतिनिधि हरिओम सिंह, ईश्वर, हरि सिंह, फतेह सिंह, कृष्ण सिंह, जिले सिंह, सुरेश, राजेन्द्र सिंह आदि से बताया कि रविंद्र लगभग 2 साल पहले सेना में भर्ती हुआ था। उसका बड़ा भाई भी सेना में है। भाई ने ही इसको सेना में भर्ती कराया था। 2 बहनें हैं, जो शादीशुदा हैं। रविंद्र के पिता का लगभग 6 साल पहले निधन हो चुका है। ग्रामीणों के अनुसार रविंद्र का साधारण परिवार है। इसके पिता किसान थे।

 

मां ने गरीबी की हालत में होने के कारण लगभग पिछले 8 साल से आंगनबाड़ी सेंटर में हेल्पर के पद पर कार्यरत है। 22 वर्षीय रविंद्र की सगाई राजस्थान के बहरोड़ तहसील के खेड़की में हुई है। पहली से 12वीं कक्षा तक निजी स्कूल में पढ़ा है। 12वीं के बाद भाई ने रिलेशनशिप के कोटे में रविंद्र को रानीखेत सेंटर में आर्मी में भर्ती कराया था। ग्रामीणों ने बताया कि रविंद्र सीधा-साधा लगता था और इसका परिवार भी शरीफ है। अब इसके सेना में भर्ती होने पर कहां से क्या संपर्क हुआ किसी को कुछ नहीं पता।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना