पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दिवाली पर खरीदे मिल्क केक और पनीर कर चुके हजम, 22 दिन बाद पता चला तीन के सैंपल फेल

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य व खाद्य सुरक्षा विभाग की ओर से त्योहारी सीजन में लिए गए मिल्क केक और पनीर के तीन सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है जबकि 29 पॉजिटिव आई है। अब विभाग की तरफ से संबंधित फर्म के खिलाफ कोर्ट में केस दायर किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापेमारी कर त्योहारी सीजन में रोहतक शहर के अलावा महम, सांपला और कलानौर क्षेत्र में मिठाइयों सहित अन्य दुग्ध उत्पादों सैंपल लिए थे। दुग्ध उत्पादों में मिलावट की शिकायत आ रही थी। शिकायतों के आधार पर तीनों जगह छापेमारी की गई थी। कुल 32 सैंपल लेकर जांच क लिए लैब में भेज दिया था। अब इनकी रिपोर्ट आई है। रिपोर्ट में बाबरा चौक स्थित एक मिष्ठान भंडार से लिया गया मिल्क केक का सैंपल फेल हो गया। इसके अलावा कच्चा बेरी रोड और डेयरी मोहल्ले से लिया गया पनीर का सैंपल की रिपोर्ट भी निगेटिव आई है। अब विभाग की तरफ से निगेटिव रिपोर्ट को लेकर कोर्ट में केस दायर किया जाएगा। कोर्ट की सुनवाई के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

स्वास्थ्य से खिलवाड़ : 6 दिन में किया था रिपोर्ट आने का दावा, एक महीने बाद आई
उस समय विभाग की तरफ से दावा किया गया था कि सभी दुग्ध उत्पादों के सैंपल की रिपोर्ट छह दिन में आ जाएगी। इसको लेकर विभाग की तरफ से अपील भी की गई थी लेकिन एक महीने बाद रिपोर्ट आई है। अब सवाल उन लोगों के स्वास्थ्य का है जिन्होंने संबंधित दुकानों से मिल्क केक व पनीर खरीदा होगा। उन्हें स्वास्थ्य की जांच करवाना जरूरी हो गया है।

सैंपल फेल पर होती है सजा और जुर्माना
सैंपल में मिलावट की पुष्टि होने पर मामले की सुनवाई डीसी की कोर्ट में होगी। यहां पर दोषी साबित होने पर जुर्माना लगाया जाता है। इसके अलावा यदि सैंपल पूरी तरह फेल हो जाते है तो केस की सुनवाई स्थानीय कोर्ट में होती है। यहां पर दोषी साबित होने पर जुर्माना और सजा दोनों का प्रावधान है।

खबरें और भी हैं...