रोहतक / 5 गांवों की पंचायत ने पति की मौत के बाद विधवा महिला को दिया गांव निकाला



प्रतीकात्मक प्रतीकात्मक
X
प्रतीकात्मकप्रतीकात्मक

  • बेटी ने निभाई थी पिता के संस्कार संबंधी रस्में, पंचायत ने खड़े किए सवाल
  • धर्म परिवर्तित कर महिला ने की थी 12 वर्ष पहले दूसरी शादी

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2019, 01:07 AM IST

नारनौल (धर्मनारायण शर्मा). गांव कूकसी में करीब 10 साल पहले धर्म परिवर्तन कर अपने 2 बच्चों के संग आई एक महिला को उसके पति की मौत के 8 दिन बाद ही ससुराल पक्ष के लोगों ने पंचायत कर न केवल मौखिक तौर पर घर से बेदखल कर दिया, बल्कि गांव से ही निकाल दिया है। यह फैसला शुक्रवार सुबह 5 गांवों की पंचायत ने सुनाया। महिला अपना सामान लेकर दिल्ली चली गई।

 

यह फैसला सुनाने में जिन लोगों की भूमिका रही, पुलिस-प्रशासन उनके खिलाफ कार्रवाई के बजाय इसे जायदाद में विधवा महिला को उसके ससुर द्वारा हिस्सा न देने की बात कहकर बचाव कर रही है, जबकि 2 दिन पहले ही इस महिला ने पुलिस में कुछ लोगों पर उसके खिलाफ कार्रवाई में भूमिका निभाने की शिकायत दी थी।

 

कूकसी गांव में रणजीत सिंह के बड़े बेटे आनंद की पहली शादी में खटास आने के बाद उसने धर्म परिवर्तित महिला से 12 वर्ष पहले शादी की थी। दोनों गांव में ही रह रहे थे। 6 जून को अजमेर में हार्ट अटैक आ जाने से पति आनंद की मौत हो गई। महिला ने कूकसी में ही अंतिम संस्कार किया। उसकी पुत्री ने हरिद्वार में अस्थि विसर्जन की रस्म अदायगी की।

 

इससे परिवार में विवाद खड़ा हो गया। ससुर ने इस मामले में अपनी जायदाद में विधवा को हिस्सा देने से इंकार कर दिया। बुधवार महिला ने महेंद्रगढ़ थाने में शिकायत दी थी। उसने गांव के कुछ लोगों के खिलाफ गांव से बाहर करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने कहा कि महिला 2 दिन बाद शिकायत करेगी। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना