हरियाणा / सीएम की रथ यात्रा में खुद को आग लगाने वाले व्यक्ति की मौत; 11 दिन से पीजीआई में भर्ती था



आग लगाने के बाद दूसरे लोगों से लिपट गया था राजेश। आग लगाने के बाद दूसरे लोगों से लिपट गया था राजेश।
झुलसने के बाद राजेश। झुलसने के बाद राजेश।
X
आग लगाने के बाद दूसरे लोगों से लिपट गया था राजेश।आग लगाने के बाद दूसरे लोगों से लिपट गया था राजेश।
झुलसने के बाद राजेश।झुलसने के बाद राजेश।

  • 60 प्रतिशत तक जल गया था राजेश, सेप्टिसीमिया इन्फेक्शन की वजह से हुई मौत

Dainik Bhaskar

Sep 05, 2019, 07:42 PM IST

रोहतक। सोनीपत में जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान 26 अगस्त को राठधाना गांव में खुद को पेट्रोल डालकर आग लगाने वाले राजेश की 11 दिन बाद पीजीआई में मौत हो गई। गुरुवार सुबह राजेश ने अंतिम सांस ली। रोहतक पीजीआई के जनसंपर्क अधिकारी वरुण अरोड़ा का कहना है कि राजेश 60 प्रतिशत तक जल चुका था। इस वजह से सेप्टिसीमिया इन्फेक्शन काफी बढ़ गया था, जिसे नियंत्रित नहीं किया जा सका। इस वजह से उसकी मौत हो गई। 

 

बता दें कि 26 अगस्त को 11 बजे जैसे ही राठधाना में सीएम की यात्रा पहुंची तो राजेश ने रथ से 15 मीटर दूर खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। राजेश झुलसने लगा तो दर्द से तिलमिलाते हुए पास खड़े 5 लोगों से लिपट गया। सीएम ने खुद माइक से लोगों को कहा कि वहां क्या आग लगी है, उसे देखें। लोगों ने आग पर काबू पाया। उसी दिन से राजेश रोहतक पीजीआई के आईसीयू में भर्ती था। 

 

आरोप लगाया- बच्चों को ग्रुप डी की नौकरी के लिए सीएम से मिला था, लेकिन नहीं दी
मूलरूप से राठधाना का राजेश सोनीपत के देवनगर में गली नंबर-1 में रह रहा था। वह दिल्ली में एक गैस एजेंसी में काम करता था। राजेश ने कहा था कि, 'साल 2016 में सीएम मनोहर लाल से दिल्ली में हरियाणा भवन में मिला था। मैंने बच्चों की नौकरी लगवाने की बात की तो सीएम ने कहा कि भर्ती निकले तो फार्म भरना, फिर आना। फिर ग्रुप डी के दो फार्म भी देकर आया। लेकिन काम नहीं हुआ। 13 जुलाई को भी मिला, पर उचित जवाब नहीं मिला। इसलिए आग लगाई।' हालांकि राजेश के बच्चे नौकरी लायक नहीं है। फिर बताया गया कि वह अपने भाई के बच्चों के लिए नौकरी की डिमांड कर रहा था। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना