भास्कर खास / वर्ल्ड चैंपियनशिप की तैयारी अमित ने विरोधी के मैचों के वीडियो देखकर की थी, फाइनल तक पहुंचने का भरोसा था



अमित पंघाल मैच जीतने के बाद अपने कोच जगदीप हुड्डा और चाचा नारायण के साथ। अमित पंघाल मैच जीतने के बाद अपने कोच जगदीप हुड्डा और चाचा नारायण के साथ।
अमित को विजयी घोषित करते हुए रैफरी। अमित को विजयी घोषित करते हुए रैफरी।
कोच व टीम के साथ अमित पंघाल। कोच व टीम के साथ अमित पंघाल।
X
अमित पंघाल मैच जीतने के बाद अपने कोच जगदीप हुड्डा और चाचा नारायण के साथ।अमित पंघाल मैच जीतने के बाद अपने कोच जगदीप हुड्डा और चाचा नारायण के साथ।
अमित को विजयी घोषित करते हुए रैफरी।अमित को विजयी घोषित करते हुए रैफरी।
कोच व टीम के साथ अमित पंघाल।कोच व टीम के साथ अमित पंघाल।

  • वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले भारत के पहले बॉक्सर हैं अमित पंघाल
  • अमित पंघाल ने सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के साकेन बिबोसिनोव को 3-2 से हराया
  • मैच के बाद सबसे पहले भारत के ओलिंपिक मेडलिस्ट विजेदर सिंह ने फोन करके बधाई दी

Dainik Bhaskar

Sep 20, 2019, 08:42 PM IST

रूस/पानीपत (मनोज कौशिक)। हरियाणा के स्टार मुक्केबाज अमित पंघाल ने शुक्रवार को वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया है। वे ऐसा करने वाले पहले भारतीय बॉक्सर हैं। अमित ने रूस के एकातेरिनबर्ग में हुए मुकाबले में कजाकिस्तान के साकेन बिबोसिनोव को 3-2 से हराया। फाइनल मुकाबला शनिवार को है। मुकाबले से पहले भारतीय टीम के कोच जगदीप हुड्डा ने रूस से दैनिक भास्कर प्लस से हुई बातचीत में बताया कि कैसे अमित ने यह मुकाम हासिल किया।

 

जगदीप हुड्डा ने बताया कि आज के मैच का प्रैशर अमित से लेकर पूरे स्टॉफ पर बेहद ज्यादा था। वर्ल्ड चैंपियनशिप में हुए अमित मुकाबलों में यह सबसे ज्यादा टफ मैच था। इससे पहले के सभी मुकाबले अमित ने 5-0 के अंतर से जीते थे। यह मुकाबला इसलिए टफ था कि कजाकिस्तान का बॉक्सर उसके सामने था। यह देश भले ही स्वतंत्र देश रहा हो लेकिन पहले सोवियत संघ का हिस्सा था। इसके चलते वहां के लोकल फैक्टर उन्हें बहुत सपोर्ट करते हैं। 

 

कजाक बॉक्सर को मिल रहा था दर्शकों का सपोर्ट 

दर्शकों के उत्साहवर्धन से लेकर माहौल, लोकल फैक्टर उनके खिलाड़ी के पक्ष में होते हैं। ऐसे में उस खिलाड़ी को हराना, भारतीय टीम के लिए सुकून भरा पल था। हालांकि अभी फाइनल की चुनौती बाकि है। लेकिन यह मैच फाइनल से कम नहीं था। इस मैच के लिए कोच से लेकर पूरे सपोर्ट स्टाफ ने माइक्रो लेवल पर प्लॉनिंग की थी। कजाकिस्तान के बॉक्सर साकेन बिबोसिनोव के वीडियो दिखा-दिखाकर अमित को बेहद बारीक ढंग से उसके स्ट्रॉंग और वीक प्वाइंट बताए गए थे। हमारी पूरी तैयारी थी। मुकाबला टफ था। तभी 3-2 से जीत हासिल हुई। 

 

फाइनल में उजबेकिस्तान के बॉक्सर से मुकाबला 

अमित का अगला मुकाबला उजबेकिस्तान के बॉक्सर से होगा। उजबेकिस्तान की टीम इस बार अपने 1 नंबर के खिलाड़ी हसनबॉय को लेकर नहीं आई है। वे ओलिंपिक चैंपियन हैं लेकिन उसे हरियाणा का अमित पंघाल दो बार हरा चुका है। शायद इसके पीछे ये वजह हो सकती है। 52 किलोभार वर्ग में इस बार अमित की टक्कर शाखोबिदिन जोरेव के साथ होगी। कोच जगदीप हुड्डा कहते हैं कि कजाकिस्तान से मैच जीतने के बाद से ही फाइनल के लिए तैयारी शुरू कर दी है। कोच और सपोर्ट स्टाफ अमित की प्रैक्टिस के साथ-साथ फाइनल की प्लॉनिंग में जुटा हुआ है। पूरी उम्मीद है कि पदक हमारे नाम होगा। 

 

जीत पर सबसे पहले बॉक्सर विजेंद्र ने दी अमित को बधाई
कजाकिस्तान से मैच जीतने के बाद अमित पंघाल को सबसे पहले बॉक्सर विजेंद्र ने बधाई दी। अमित के साथ गए उसके चाचा राजनारायण पंघाल बताते हैं कि विजेंद्र की बधाई के बाद केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू, हरियाणा के वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु, फिल्म स्टार धर्मेंद्र ने भी अमित पंघाल को बधाई दी।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना