फूड हिस्ट्री / हमारे यहां भी लोकप्रिय होती मैक्सिकन डिश नाचोस



Food history by Chef Harpal singh Sokhi- Story of mexican dish nachos
X
Food history by Chef Harpal singh Sokhi- Story of mexican dish nachos

Dainik Bhaskar

Jun 02, 2019, 12:30 PM IST

हेल्थ डेस्क. इन दिनों खासकर भारत की मेट्रो सिटीज और बड़े शहरों में मैक्सिकन डिशेज भी ट्रेंड में नजर आ रही हैं। इनमें सबसे लोकप्रिय मैक्सिकन डिश है नाचोस। कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि आने वाले कुछ वर्षों में पिज़्ज़ा और मोमोज़ की तरह यह भी हमारे छोटे शहरों और कस्बों की गलियों में ओरिजिनल या कुछ भारतीय ट्विस्ट के साथ दिखाई देने लगे। शेफ  हरपाल सिंह सोखी आज बात कर रहे हैं इसी नाचोस की। 

टोरटिला चिप्स को चीज, जालापिनो, ऑलिव्स और सालसा से कवर करके बनते हैं नाचोस

  1. इस मैक्सिकन डिश का मुख्य इंग्रेडिएंट है टोरटिला चिप्स जो मक्के के आटे से बनाई जाती हैं। आमतौर पर इनका आकार त्रिकोण होता है। इस चिप्स को चीज़, जालापिनो (एक तरह की हरी मिर्च), ऑलिव्स, चीज़-बेस्ड सॉस और सालसा से कवर करके परोसा जाता है। यही नाचोस कहलाती है। यह अलग-अलग फ्लेवर में मिलती हैं। 

  2. नाचोस का ईजाद साल 1943 में उत्तरी मैक्सिकन शहर पाइद्राज नेगराज में हुआ था। इस शहर के एक शेफ इग्नाचिओ अनाया जो 'नाचो' नाम से लोकप्रिय थे, एक रेस्टॉरेंट चलाते थे। एक दिन कुछ अमेरिकी सैनिकों की पत्नियां जो पास में ही स्थित फोर्ट डंकन में ठहरी हुई थीं, कुछ खरीदारी करने के लिए पाइद्राज नेगराज शहर में आई हुई थीं। उन्हें कुछ खाने की इच्छा हुई तो वे इस रेस्टॉरेंट में आ गईं।

  3. लेकिन जिस समय ये सैन्य पत्नियां आईं, उस समय तक अनाया अपना रेस्टॉरेंट लगभग बंद कर चुके थे और उनके पास सर्व करने के लिए कोई डिश नहीं बची थी। लेकिन एक शेफ यह नहीं कह सकता कि मेरे पास खिलाने को कुछ नहीं है। उस समय अनाया के रेस्टॉरेंट में कुछ टोरटिला (मक्के के आटे से बनी रोटियां) बची हुई थीं। तो अनाया ने उन टोरटिला को त्रिकोण आकार में काटा और अच्छे से फ्राई कर लिया।

  4. टोरटिला की वे रोटियां टोरटिला चिप्स बन गईं। अब अनाया ने उन टोरटिला चिप्स पर ढेर सारा चीज़ और जालापिनो मिर्च के टुकड़े डालकर सैनिकों की उन पत्नियों को सर्व कर दिया। उन्हें वह डिश बहुत पसंद आई। जब सैन्य पत्नियों ने इसका नाम पूछा तो अनाया ने यूं ही मजाक में बोल दिया- 'नाचोस स्पेशल' यानी 'नाचो की खास डिश।' बस यहीं से नाचोस का ईजाद हुआ। 

  5. धीरे-धीरे नाचोस पूरे मैक्सिको में लोकप्रिय हो गई। मैक्सिको से बाहर अमेरिका में इसकी लोकप्रियता 1960-70 के दशक में शुरू हुई। साल 1959 में अमेरिका के सैन एंटोनियो में रहने वाली एक युवा महिला कार्मेन रोचा अपने पति के साथ लॉस एंजिलिस में बस गई। सैन एंटोनियो शहर के मैक्सिको की सीमा से सटा होने के कारण वहां नाचोस पहले से ही काफी लोकप्रिय थीं।

  6. रोचा ने लॉस एंजिलिस के प्रसिद्ध रेस्टॉरेंट अल चोलो मैक्सिकन में नौकरी करनी शुरू कर दी। उसी दौरान रोचा ने वहां के शेफ्स को नाचोस के बारे में बताया और उन्हें नाचोस बनाकर भी खिलाई। इस तरह नाचोस वहां के मेन्यू में भी शामिल हो गई और धीरे-धीरे वह पॉपुलर होने लगी। 

  7. नाचोस में क्रांतिकारी मोड़ तब आया, जब अमेरिकी फूड कंपनी 'रिकोज प्रोडक्ट्स' के मालिक फ्रैंक लिबर्टो का इस पर ध्यान गया। उन्होंने नाचोस के मोडिफाइड वर्जन को लॉन्च करते हुए इसमें रेडिमेड टोरटिला चिप्स और चीज सॉस का इस्तेमाल किया। इस वर्जन को नाम दिया गया 'बालपार्क नाचोस।'

  8. यह नाचोस और भी लोकप्रिय तब हुई जब अमेरिका में मंडे नाइट फुटबॉल गेम्स के प्रसारण के दौरान अपने जमाने के जाने-माने खेल पत्रकार और स्पोर्ट कॉमेन्टेटर हॉवर्ड कॉसेल ने कहा कि उन्हें भी नाचोस खाकर मजा आ गया। इस तरह नाचोस मैक्सिको से अमेरिका में और फिर दुनिया के कई हिस्सों में लोकप्रिय होती चली गई। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना