मनोपचार / ज़रूरी है मस्तिष्क की जिमिंग, इससे अवसाद और चिड़चिड़ापन होता है कम



benefits of mind gyming
X
benefits of mind gyming

Dainik Bhaskar

Mar 13, 2019, 04:34 PM IST

हेल्थ डेस्क. स्वस्थ मन का स्वस्थ शरीर पर सीधा असर पड़ता है। मन को जकड़ते रोगों के मौजूदा दौर में दिमाग़ी कसरत अनिवार्यता बन चुकी है। रोज़ाना मस्तिष्क की कसरत करने से अवसाद, चिड़चिड़ापन तथा चिंता कम होती है और मानसिक क्षमता का विकास होता है। आप अपना दैनिक कार्य करते हुए भी इन्हें कर सकते हैं। 

से हैं कारगर तरीके

  1. घरेलू सामान की सूची

    अपने ज़रूरी किराने के सामान की सूची तैयार करें। जब सामान ख़रीदने जाएं तो सामान की सूची को ध्यान से पढ़ें और घर पर ही छोड़ दें। अब आपको जो भी सामान याद है वो ख़रीदें। अगर आपको लगता है कि आप कुछ भूल रही हैं तो दिमाग़ पर ज़ोर डालकर याद करने की कोशिश करें। बार-बार बाज़ार जाने से बचने के लिए लिस्ट की फोटो खींचकर भी रख सकते हैं। लेकिन लिस्ट तभी देखें जब आप वस्तुयाद कर थक जाएं।

  2. शब्दों का खेल

    ये कसरत काफ़ी मज़ेदार है। आपको सिर्फ़ एक शब्द या कोई चीज़ सोचनी है। मिसाल के तौर पर चावल। अब सोचें कि चावल से संबंधित और कौन सी चीज़ें हो सकती हैं जैसे खीर, खिचड़ी आदि। इसी प्रकार कई तरह के वस्तुया शब्द का प्रयोग कर याददाश्त बढ़ा सकते हैं।

  3. दिनचर्या याद करें

    मान लीजिए कि आप ऑफिस या कहीं बाहर से घर आईं हैं। जब आप घर आती हैं तो दरवाज़ा खोलने के बाद सबसे पहले क्या करती हैं, शायद चप्पल उतारती होंगी या चाबी अपने स्थान पर रखती होंगी। कुछ इसी तरह दिनभर की गतिविधियों को याद करें। हर बारीक़ गतिविधि को याद करें। आंखे बंद करें कल्पना करें। आंखें खुली होने से ध्यान भटक सकता है।

  4. मैप स्केच करें

    अगर आपको चित्रकारी पसंद है तो यह आपको बिल्कुल पसंद आएगा। मान लीजिए कि आपके घर के क़रीब आपकी दोस्त रहती है। अब आपके घर से उसके घर के बीच का रास्ता एक पन्ने पर स्केच करें- एक मैप की तरह। इसी तरह किसी दुकान या मेडिकल स्टोर जैसे स्थानों को याद करें और उसका मैप स्केच करें। रेल मार्ग के स्टेशनों का सिलसिला भी लिख सकती हैं। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना