ईराक में पहली बार / 25 साल की महिला ने नॉर्मल डिलीवरी से 7 बच्चों को दिया जन्म



Iraqi mother gives birth NATURALLY to six girls and one boy countrys first SEPTUPLET pregnancy
Iraqi mother gives birth NATURALLY to six girls and one boy countrys first SEPTUPLET pregnancy
X
Iraqi mother gives birth NATURALLY to six girls and one boy countrys first SEPTUPLET pregnancy
Iraqi mother gives birth NATURALLY to six girls and one boy countrys first SEPTUPLET pregnancy

  • पूर्व ईराक के दियाली प्रांत के हॉस्पिटल में हुई डिलीवरी, मां और बच्चे दोनों स्वस्थ 
  • दुनिया का पहला मामला अमेरिका में सामने आया था, जब महिला ने 7 बच्चों को जन्म दिया था
  • तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने घर जाकर दी थी बधााई, घर देने के साथ आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई थी
     

Dainik Bhaskar

Feb 16, 2019, 04:22 PM IST

हेल्थ डेस्क. पूर्वी इराक के दियाली प्रांत में 25 साल की महिला ने 7 बच्चों को जन्म दिया है। यह इस देश में पहला ऐसा मामला है, जब नॉर्मल डिलीवरी से 6 लड़कियां और 1 लड़के का जन्म हुआ है। बच्चे और मां दोनों स्वस्थ हैं। 

दुनिया में 1997 में पहली बार किसी महिला ने 7 बच्चों को जन्म दिया था

  1. दुनिया का पहला ऐसा मामला 1997 में अमेरिका के लोआ में देखा गया था, जहां महिला ने सिजेरियन के बाद 7 बच्चों को जन्म दिया था। इस मामले की खबर मिलने पर तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने उस परिवार से व्यक्तिगत रूप से मिलकर बधाई दी थी। क्लिंटन ने इस दंपती को घर और आर्थिक मदद देने के साथ उनके सभी बच्चों को स्कॉलरशिप भी दी थी। 

  2. इराक के इस ताजा मामले से पहले ऐसा केस लेबनान में 2013 में सामने आया था। लेबनान के जॉर्ज यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में एक महिला ने 3 लड़के और 3 लड़कियों को जन्म दिया था। इन बच्चों को सेक्सट्यूपलेट्स कहते हैं। 

  3. इराक के इस केस में सात बच्चों के पिता बने यूसुफ फदल कहते हैं कि बच्चों की देखभाल करने के लिए परिवार में 10 लोग हैं। अब हम और बच्चे नहीं चाहते। पति-पत्नी पर सिलेक्टिव रिडक्शन (भ्रूण की संख्या कम करना) के आरोप भी लगे थे, लेकिन दोनों ने इसे खारिज किया है।

  4. भ्रूण के हृदय में कैमिकल डाला जाता है

    प्रेग्नेंसी के दौरान जब गर्भ में एक से ज्यादा भ्रूण विकसित हो रहे होते हैं तो भ्रूण की संख्या कम की जाती है। इसे मल्टीफीटल रिडक्शन भी कहते हैं। यह दो दिन की प्रक्रिया होती है। पहले दिन यह तय किया जाता है कि किस भ्रूण हो हटाया जाना है।

  5. दूसरे दिन अल्ट्रासाउंड की मदद से चुने हुए भ्रूण के हृदय में पोटेशियम क्लोराइड का घोल इंजेक्ट किया जाता है। गर्भ में कई भ्रूण होने पर मां को प्रेग्नेंसी के खतरों से बचाने के लिए ऐसा किया जाता है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना