पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Happylife
  • The Patient Was Coughing For Two Months Due To A Stick In The Throat And Nose, The Doctor Said, Reached The Body With Water

गले और नाक से निकाली गईं 2 जोक, 3 सेमी लंबाई की एक वोकल कार्ड में फंसी थी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • चीन के फुजिहान प्रांत का मामला, मरीज दो महीने से परेशान था
  • बलगम से खून आया, तो मरीज डॉक्टर के पास पहुंचा, तब यह बातें सामने आईं

हेल्थ डेस्क. चीन के फुजिआन प्रांत में लगातार दो महीने तक खांसी झेल रहे व्यक्ति के गले के अंदर से जोक चिपकी पाई गई। मरीज के मुताबिक, दो महीने से लगातार खांसी आ रही थी, लेकिन जब बलगम में खून आने लगा तो डॉक्टर के पांस पहुंचा।


चीन के वुपिंग अस्पताल में सीटी स्कैन के बाद भी वजह सामने नहीं आई, तो डॉक्टरों ने ब्रॉन्कोस्कोपी की। जोक की पुष्टि होने के बाद माइनर सर्जरी करके इसे निकाला गया।

1) 3 सेमी लंबी थी जोक

ब्रॉन्कोस्कोपी में सामने आया कि गले में दो जोक चिपकी हुई हैं। पहली जोक की लंबाई 3 सेमी थी, जो वोकल कार्ड वाले हिस्से में थी। दूसरी दाहिने नथुने में थी। मरीज के मुताबिक, जोक नाक के जरिए गले तक कैसे पहुंची, यह उसे पता नहीं चला। डॉक्टरों का कहना है, जोक पानी के जरिए शरीर में पहुंची।

रेस्पिरेट्री विभाग के डायरेक्टर डॉ. रॉव गुआंगयोंग के मुताबिक, जोक शरीर में पहुंचने की वजह पानी हो सकता है। जब मरीज में पानी पीया होगा, तो जोक काफी छोटी होगी, जिसे आंखों से देखना संभव नहीं हो पाता है। पिछले दो महीने से जोक गले और नाक के अंदर चिपककर खून चूस रही और आकार में बढ़ रही थी।

डॉक्टरों के मुताबिक, मरीज को एनेस्थीसिया देकर जोक निकाली गई हैं। हालत में सुधार हो रहा है। पिछले साल चीन में ऐसा ही मामला सामने आया था, जिसमें मरीज की नाक में जोक तीन महीने से थी। इस साल भी एक महिला के गले में जोक चिपके होने की घटना सामने आ चुकी है।

खबरें और भी हैं...