विज्ञापन

वर्ल्ड हीमोफीलिया डे / एस्‍परिन या नॉन स्‍टेरॉयड दवा लेने से बचें और हमेशा साथ रखें डॉक्टर का नंबर

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 12:56 PM IST


World hemophilia day 2019 men are more prone to hemophilia know how to treat hemophilia
X
World hemophilia day 2019 men are more prone to hemophilia know how to treat hemophilia
  • comment

  • हीमोफीलिया के मरीजों में खून का थक्का न जमने के कारण जान का जोखिम बढ़ जाता है
  • रोग का पूरी तरह इलाज संभव नहीं है लेकिन सावधानी बरतकर जान का जोखिम कम किया जा सकता है

हेल्थ डेस्क. आमतौर पर चोट लगने या कट जाने पर रक्त बहता है। कुछ समय बाद थक्का बन कर जम जाता है और रक्त निकलना बंद हो जाता है लेकिन हीमोफीलिया के मरीजों में ऐसा नहीं होता। लगातार खून निकलने से जान जाने का खतरा बढ़ जाता है। इसके मामले पुरुषों में अधिक देखने को मिलते हैं। हीमोफीलिया का पूरी तरह इलाज संभव नहीं है लेकिन कुछ इलाज और सावधानी बरतकर जान का जोखिम कम किया जा सकता है। हर साल लोगों को जागरुक करने के लिए 17 अप्रैल को वर्ल्ड हीमोफीलिया डे मनाया जाता है। जानते हैं इससे कैसे बचाव कर सकते हैं...
 

क्या है हीमोफीलिया की वजह

    • विशेषज्ञों के मुताबिक, हीमोफीलिया का कारण रक्त में एक प्रोटीन की कमी का होना है, जिसे 'क्लॉटिंग फैक्टर' कहते हैं।
    • क्लॉटिंग फैक्टर की विशेषता यह है कि यह बहते हुए रक्त के थक्के जमाकर उसका बहना रोकता है। यह बीमारी रक्त में थ्राम्बोप्लास्टिन नाम पदार्थ की कमी से होती है। 
    • थ्राम्बोप्लास्टिन में खून को जल्द ही थक्के में बदल देने की क्षमता होती है। खून में इसके न होने से खून का बहना बंद नहीं होता है।
    • महिलाओं के इस बीमारी से ग्रस्त होने का खतरा बहुत कम होता है। वे ज्यादातर इस बीमारी के लिए वाहक की भूमिका निभाती हैं। 
    • हीमोफीलिया दो तरह का होता है, ए और बी। हीमोफीलिया-ए और बी वाले लोगों में अक्सर, अन्य लोगों की तुलना में लंबे समय तक रक्तस्राव होता है।

  1. 5 बातों का ध्यान रखें हीमोफीलिया के मरीज

    1. किसी तरह का इलाज लेते वक्त डॉक्टर को रोग की जानकारी जरूर दें। एस्‍परिन या नॉन स्‍टेरॉयड दवा लेने से जहां तक संभव हो बचें। 
    2. हेपेटाइटिस-बी का वैक्‍सिनेशन जरूर करवाएं।
    3. कहीं भी जाते समय ब्‍लीडिंग होने या ज्‍वाइंट डैमेज पर होने वाले नुकसानों से बचने के उपायों का इंतजाम करके चलें। बेहतर हो कि डॉक्‍टर का नंबर हमेशा आपके पास हो।
    4. हीमोफीलिया से पीड़ित महिला का बेटा होने पर अगर ये साबित हो गया है कि वह भी हीमोफीलिया से पीड़ित है तो उसे बहुत देखभाल की जरूरत होगी। 
    5. हीमोफीलिया से पीड़ित इससे जुड़ी जानकारी को हमेशा साथ लेकर चलें और समय-समय पर अपडेट होते रहें। 

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन