चंडीगढ़ / 12 साल की तनिष्का ने नेशनल आर्चरी टूर्नामेंट में तोड़े रिकॉर्ड



तनिष्का सरीन तनिष्का सरीन
X
तनिष्का सरीनतनिष्का सरीन

  • सीबीएसई के इतिहास का अभी तक का हाईएस्ट स्कोर बनाया, जीते 4 गोल्ड
  • चार गोल्ड हासिल करने वाली इकलौती प्लेयर,684 स्काेर तक नहीं पहुंच सका कोई खिलाड़ी

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2019, 11:59 AM IST

चंडीगढ़. सेक्रेड हार्ट सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर-26 में 7वीं क्लास की स्टूडेंट तनिष्का सरीन ने सीबीएसई नेशनल आर्चरी टूर्नामेंट में अब तक के सभी रिकॉर्ड ब्रेक कर दिए गए हैं।

 

12 साल की तनिष्का ने सभी तीन कैटेगरीज में बॉयज और गर्ल्स दोनों की अंडर 14, अंडर 17 और अंडर 19 में गोल्ड मेडल जीता है। तनिष्का ने ओवरऑल 684 स्कोर लेकर सीबीएसई के अभी तक के इतिहास में सबसे ज्यादा स्कोर हासिल किया है।

 

अभी तक आमुमन तौर पर लड़कों का स्कोर लड़कियों से ज्यादा रहता था लेकिन तनिष्का ने लड़कियों के साथ ही लड़कों के भी रिकॉर्ड को तोड़ दिया। इस टूर्नामेंट में 27 राज्य, 9 यूनियन टेरेटरीज और 3 देशों के इंटरनेशनल प्लेयर्स ने हिस्सा लिया था।

आर्चरी के इस टूर्नामेंट में तनिष्का ने चार गोल्ड मेडल हासिल किए। तनिष्का इकलौती प्लेयर ऐसी रहीं जिसने सीबीएसई नेशनल में लड़कों व लड़कियों की सभी कैटेगरीज में गोल्ड लिए। तनिष्का के अलावा कोई दूसरा प्लेयर ऐसा नहीं रहा जिसने इंडिविजुअल कैटेगरी में चार गोल्ड मेडल हासिल किए हों।

 

ओवरऑल 360 स्कोर में से तनिष्का का 30 मीटर का स्कोर 337 रहा जबकि 20 मीटर का स्कोर 347 रहा। इन दोनों पर गोल्ड मेडल मिला। इसके अलावा रैंकिंग राउंड में ओवरऑल हाइएस्ट रिकॉर्ड ब्रेकिंग स्कोर 684 रहा और गोल्ड मेडल हासिल किया।

 

इसके बाद ओलंपिक राउंड हुआ और इसमें देश विदेश 16 टॉप रैंक हासिल करने वाले आर्चर्स ने हिस्सा लिया। यह प्लेयर्स अपने जोन को रिप्रिजेंट कर रहे थे और इनमें झारखंड व महाराष्ट्र के कई प्रबल खिलाड़ी भी थे। इन सभी को हराते हुए तनिष्का ने ओलंपिक राउंड में भी गोल्ड मेडल हासिल किया।

सीबीएसई आर्चरी टूर्नामेंट के इतिहास में अभी तक का ओवरऑल स्कोर 660 रहा था लेकिन तनिष्का ने 684 स्कोर बनाकर सभी रिकॉर्ड ब्रेक कर दिए। खासबात है कि इंडियन व बाकी के इवेंट्स में यह अोवरऑल स्कोर बॉयज व गर्ल्स की सभी कैटेगरीज में सबसे टॉप लेवल का स्कोर रहा।

 

इस रिकॉर्ड को ब्रेक करने के लिए तनिष्का को चार गोल्ड मेडल के अलावा ट्रॉफी भी दी गई। सीबीएसई के डिप्टी डायरेक्टर स्पोटर्स डॉ. मंजीत सिंह, एसडीएम दिरबा मंजीत, आर्चरी के नेशनल कोच सुरेंद्र सिंह रंधावा और व मैनेजर लोकेश चंद की ओर से यह मेडल व ट्रॉफी दी गईं।


करीब 5 घंटे की हर रोज प्रैक्टिस: नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट व स्टेट अवॉर्ड हासिल कर चुकी तनिष्का ने आर्चरी वर्ष 2016 में शुरू की थी। इसके बाद कई मेडल हासिल किए आैर पिछले साल भी सीबीएसई के इसी टूर्नामेंट में वह चैम्पियन रही थी और लड़कियों की कैटेगरी में बेस्ट प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का खिताब मिला था। तनिष्का ने बताया कि वह सुबह 5.30 बजे तैयार हो जाती हैं और सुबह 7 बजे तक टारगेट पर प्रैक्टिस करती है। सुबह 8 से 2 बजे तक सेक्रेड हार्ट स्कूल में पढ़ाई करती हैं। इसके बाद लेक स्पोर्टस क्लब में दोपहर 3.30 से 6.30 बजे तक प्रैक्टिस करती हैं। शाम 8 बजे से रात 10.30 बजे तक पढ़ाई करती है।
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना