चंडीगढ़-पंजाब / हेपेटाइटिस-सी के रोगियों को नि:शुल्क दवाओं के लिए दिए 75 करोड़ रुपए

मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह एक समागम के दौरान सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह एक समागम के दौरान सभा को संबोधित करते हुए
X
मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह एक समागम के दौरान सभा को संबोधित करते हुएमुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह एक समागम के दौरान सभा को संबोधित करते हुए

  • कई अस्पतालों में नए एमसीएच विंग्स बनाए जाएंगे
  • हेल्थकेयर सुविधाओं के लिए फंड की कोई कमी नहीं

दैनिक भास्कर

Mar 20, 2020, 05:16 PM IST

चंडीगढ़. पंजाब सरकार इस समय जितना ध्यान स्वास्थ्य सुविधाओं की तरफ दे रही है, इतना किसी भी पूर्ववर्ती सरकार ने नहीं दिया है। सरकार ने कई नई योजनाओं को शुरू करने के साथ ही लोगों को एक से बढ़कर एक नई स्वास्थ्य सुविधा प्रदान की है। इस संबंध में सरकार बजट को भी लगातार बढ़ा रही है और इस साल के बजट में भी कई नई सेवाओं के लिए अच्छा खासा फंड रखा गया है।

पंजाब सरकार ने अधिक से अधिक लोगों को मूल स्वास्थ्य सेवाओं को प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य उप केंद्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अपर्ग्रेड, मरम्मत और रखरखाव के लिए 50 करोड़ रुपए का प्रबंध किया है। इस बजट से इन स्वास्थ्य केन्द्रों में बेहतर सुविधाओं को जुटाया जा सकेगा और लोगों को राहत मिलेगी।

इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग ने खरड़, फगवाड़ा, जगराओं, बुढलाडा, मलोट, गिद्दड़बाहा के उप विभागीय अस्पतालों में नए एमसीएच विंग्स का निर्माण करने की योजना बनाई है। इसके लिए 38 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। ये काम भी तेजी से शुरू किया जा रहा है।


थैलेसीमिया के रोगियों को आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रदान करने के लिए एक थैलेसीमिया केंद्र लुधियाना में सरकारी आयुर्वेदिक अस्पताल माडल ग्राम में स्थापित किया जाएगा। इससे जिला और आसपास के जिलों के थैलेसीमिया के रोगियों को एक नई इलाज सुविधा प्राप्त होगी साहिबजादा अजीत सिंह नगर, मोहाली में बनने वाले मेडिकल कालेज के निर्माण कार्यों के लिए 157 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

इस मेडिकल कालेज में शिक्षण 2020-21 सत्र से शुरू होगा। इस का निर्माण कार्य काफी तेजी से चल रहा है। इसके साथ ही कपूरथला- होशियारपुर में नए मेडिकल कालेजों की स्थापना के लिए 10 करोड़ रुपए का प्रारंभिक आवंटन प्रस्तावित है। इन कालेजों में शिक्षण सत्र क्रमश: 2021-22 और 2022-23 में शुरू होना है। इस वर्ष 897 करोड़ रुपए आरक्षित किए गए है।

फिरोज़पुर में पीजीआई का सेटेलाईट सेंटर
संगरूर में पीजीआई का सेटेलाईट सेंटर बनने के बाद अब सीमांत जिला फिरोज़पुर में पीजीआई के सेटेलाईट सेंटर स्थापना शुरू करने की योजना है। इस संबंध में प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार है और जल्द ही इस पर काम शुरू हो जाएगा। इस सेंटर के अलावा पटियाला, अमृतसर और फरीदकोट मेडिकल कालेज के लिए भी सरकार ने 224 करोड़ रुपए का प्रस्ताव किया गया है। फाजिल्का में कैंसर केयर सेंटर और अमृतसर में स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट को इसी साल पूरा कर लिया जाएगा। इसके लिए 72 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है। इस इंस्टीट्यूट के शुरू होने के साथ इस सीमा पट्टी में मौजूद कैंसर रोगियों की बड़ी आबादी को अपने घर के पास उपचार सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

(उपरोक्त कंटेंट दैनिक भास्कर स्पेस मार्केटिंग इनिशिएटिव के अंतर्गत पंजाब सरकार से लिया गया है)

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना