चंडीगढ़ / रिसर्च स्काॅलर शिखा कलोत्रा के मुताबिक सिर्फ दो हफ्ते के भीतर 'स्पाइनल कॉड इंजरी' की रिकवरी संभव है



रिसर्च स्काॅलर शिखा कलोत्रा रिसर्च स्काॅलर शिखा कलोत्रा
X
रिसर्च स्काॅलर शिखा कलोत्रारिसर्च स्काॅलर शिखा कलोत्रा

  • इंटरनेशनल ब्रेन रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इब्रो),एशिया पेसिफिक रिसर्च सेल (एपीआरसी) के स्कूल में किया पोस्टर प्रेजेंट
  • शिखा के मुताबिक शरीर में ही बनने वाले पॉलिथियालिक एसिड करेंगे दवा का काम

Dainik Bhaskar

Nov 08, 2019, 02:32 PM IST

चंडीगढ़. 'स्पाइनल कॉड इंजरी' की रिकवरी सिर्फ दो सप्ताह के भीतर संभव है। जिस इंजरी को रिकवर होने में लगभग आठ सप्ताह का समय लगता है, वह एक चौथाई समय में संभव हो सकेगी।


गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी की रिसर्च स्कॉलर शिखा कलोत्रा ने इंटरनेशनल ब्रेन रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (इब्रो) - एशिया पेसिफिक रिसर्च सेल (एपीआरसी) के स्कूल में ये पोस्टर प्रेजेंट किया है ।
 

उन्होंने टिश्यू इंजीनियरिंग के जरिए ऐसी तकनीक तैयार की है जिससे इंसानी शरीर में ही पाए जाने वाले पॉलिथियासिक एसिड दवा के तौर पर काम करेंगे। लगभग 10 साल से इसी विषय पर काम कर रही लैब में पहले ही साबित किया जा चुका है कि "5 नॉट' कंपाउंड पॉलिथियासिक एसिड की तरह की परफॉर्म करता है।

 

शिखा जीएनडीयू में डॉ गुरचरन कौर की गाइडेंस में पीएचडी कर रही हैं। उन्होंने "कॉलीजन लैमिनन' के पुल बनाए हैं। हालांकि पॉलिथियालिक एसिड और "5 नॉट' चूहों पर रिसर्च के दौरान स्पाइनल कॉड इंजरी पर असर दिखा रही थी लेकिन इसको ठीक होने में आठ सप्ताह का समय लग रहा था। इसका प्रोजेक्ट इसके असर पॉजिटिव थे लेकिन तेज नहीं।

 

टिश्यू बेस इंजीनियरिंग के जरिए ऐसे बदलाव किए कि दवा ज्यादा देर तक जख्म पर रहे। इन विट्रो माॅडल यानि लैब के स्तर पर चेक किया तो इसके असर बहुत अच्छे थे। बाद में फिर उन्होंने चूहाें पर भी इसको चेक किया ताे सिर्फ दो सप्ताह में ही स्पाइनल कॉड इंजरी में आठ हफ्तों जितनी इंप्रूवमेंट देखी गई। अब वह अागे इस रिसर्च काे अागे बढ़ाना चाहती हैं।


स्पाइनल कॉड इंजरी: डब्ल्यूएचओ के अनुसार हर साल ढाई से पांच लाख व्यक्ति इस समस्या के शिकार होते हैं। यह समस्या पुरुषों में 82 फीसदी और महिलाओं में 61 फीसदी होती है।

स्पाइनल इंजरी के कारण: रोड ट्रैफिक क्रैशेस, गिरना, वायलेंस, स्पोर्ट्स एंड रीक्रिएशन और संबंधित इंजरीज

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना