चंडीगढ़ / 21 शहरों का सफर तय करने के बाद कार्टिस्ट यात्रा का चंडीगढ़ में हुआ समापन



After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
X
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.
After completing the journey of 21 cities, cartist ended at Chandigarh.

  • 9 जनवरी को जयपुर से शुरू हुई थी यह एग्जीबिशन
  • संपूर्ण यात्रा के दौरान कला और कारों के जरिए शांति के संदेश प्रसारित किया गया

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2019, 06:42 PM IST

चंडीगढ़/जयपुर. जयपुर के विंटेज कार रेस्टोरर व कलाकार हिमांशु जांगिड़ द्वारा शुरू की गई ट्रेवलिंग आर्ट एग्जीबिशन— 'कार्टिस्ट यात्रा' का चंडीगढ़ पहुंचकर समापन हुआ। 9 जनवरी को जयपुर से शुरू हुई यह एग्जीबिशन इंदौर, अहमदाबाद, गोवा, बैंगलुरू, विशाखापट्टनम, भुवनेश्वर, कोलकाता, लखनऊ और गुरुग्राम सहित 21 शहरों को कवर कर चुकी है।

 

यूनाइट इंडिया के एजेंडे के साथ शुरू हुई इस यात्रा द्वारा करीब 9100 किलोमीटर का सफर तय किया जा चुका है, जिसमें पेंट की गई 8 कारें भारत के विभिन्न शहरों से होकर गुजरी हैं। कार्टिस्ट के संस्थापक हिमांशु जांगिड़ ने कार्टिस्ट की अवधारणा के बारे में बताया कि 'हमनें कारों के माध्यम से कला को बढ़ावा देने के विचार के साथ इस यात्रा की शुरूआत की थी। यह हमारा दूसरा वर्ष है और हमनें विभिन्न भारतीय शहरों की यात्रा करके न सिर्फ प्रेम, शांति और एकता का संदेश फैलाया है, बल्कि स्थानीय प्रतिभाओं और युवाओं को भी कला व कारों के माध्यम से भारत को एकजुट करने के एजेंडे में शामिल किया है।'

 

जयपुर के विंटेज कार रेस्टोरर हिमांशु का यह विंटेज और क्लासिक कारों के प्रति जुनून ही था, जिसने उन्हें मूविंग आर्ट्स की अवधारणा के साथ प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया। इस संपूर्ण यात्रा के दौरान कला और कारों के जरिए शांति के संदेश प्रसारित किया गया। कुछ शहरों में पर्यावरण के लिए खतरनाक प्लास्टिक वेस्ट को कम करने का अभियान भी चलाया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना