पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Agreement Between Yuvraj Singh\'s Brother And His Wife

युवराज सिंह के भाई और उसकी पत्नी के बीच 48 लाख में हुआ समझौता

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोर्ट में कॉम्प्रोमाइज डीड फाइल, दोनों पक्षों को वापस लेने होंगे केस

चंडीगढ़. क्रिकेटर युवराज सिंह के भाई जोरावर सिंह और उसकी पत्नी आकांक्षा शर्मा बीच 5 साल से चल रही कानूनी लड़ाई बुधवार को खत्म हो गई। दोनों पार्टियों ने 48 लाख रुपए में समझौता कर लिया है। जोरावर सिंह को 48 लाख रुपए आकांक्षा को देने होंगे। दोनों पक्षों की ओर से बुधवार को एसीजेएम वरुण नागपाल की कोर्ट में कॉम्प्रोमाइज डीड फाइल की गई। दोनों के बीच कुछ शर्तों के साथ समझौता हुआ है। हालांकि इस कॉम्प्रोमाइज डीड पर कोर्ट का फैसला आना बाकी है। इस पर 23 अगस्त को सुनवाई होगी। समझौते के मुताबिक दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर जो केस फाइल किए हैं, वे उन्हें वापस लेने होंगे। इन दोनों के अलावा कॉम्प्रोमाइज डीड में युवराज सिंह की मां शबनम भी शामिल हैं क्योंकि शबनम ने भी आकांक्षा पर केस फाइल किए हैं और उन्हें भी ये केस वापस लेने होंगे। 

 

जोरावर और आकांक्षा की शादी फरवरी 2014 में हुई थी। लेकिन तब से दोनों अलग रह रहे थे। जोरावर ने आकांक्षा के खिलाफ मई 2015 में तलाक के लिए केस फाइल किया था। जिस पर 23 अगस्त 2019 को अगली सुनवाई है। वहीं, आकांक्षा ने भी जोरावर के खिलाफ डोमेस्टिक वायलेंस का केस फाइल किया हुआ है। 30 जुलाई 2019 को सुनवाई है। 

 

ये शर्तें रखी 

 

  • कोई भी पार्टी एक-दूसरे पर डायरेक्ट या इन-डायरेक्टर कोई आरोप नहीं लगाएंगे और न ही एक-दूसरे को बदनाम करेंगे 
  • कोई भी पार्टी एक-दूसरे के खिलाफ कोई क्लेम पिटीशन फाइल नहीं करेंगे 
  • जोरावर आकांक्षा के खिलाफ कोई कंप्लेंट फाइल नहीं करेंगे 
  • आकांक्षा भी जोरावर व उनकी फैमिली की रेपुटेशन के खिलाफ किसी भी मीडिया में नहीं जाएंगी
  • अगर कोई भी पार्टी समझौते की शर्तों को तोड़ेगी तो दूसरी पार्टी कोर्ट में चल रहे केसों को दोबारा से शुरू करवा सकती है

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें