तोड़ी चुप्पी / मंत्री चन्‍नी ने माना महिला अफसर को भेजा था मैसेज, बाेले- गलती से चला गया



Cabinet minister of Punjab Charanjit Singh Channi replied about SMS
X
Cabinet minister of Punjab Charanjit Singh Channi replied about SMS

  • मंत्री चरणजीत सिंह ने अकाली दल पर लगाया मामले को राजनैतिक रंग देने का आरोप
  • शिअद प्रधान सुखबीर बादल ने कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी की जिम्मेदारी लगाए जाने पर उठाए सवाल

Dainik Bhaskar

Oct 30, 2018, 02:44 PM IST

चंडीगढ़. पंजाब के तकनीकी शिक्षा मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने महिला अाईएएस अफसर को मैसेज भेजने की बात स्वीकार की है। विदेश यात्रा से लौटने के बाद मंगलवार को चन्‍नी ने कहा कि उन्‍होंने गलती से महिला अधिकारी को मैसेज भेज दिया था। इसके लिए महिला अधिकारी से माफी मांग ली थी और मामला खत्‍म हो गया था। इसके बाद शिरोमणि अकाली दल ने साजिश रचकर इसे राजनीतिक रंग दिया है।

 

मंत्री के 'मैसेज' से विपक्ष ने खोल रहा है माेर्चा : मंत्री चन्‍नी द्वारा एक सीनियर महिला आईएएस अधिकारी को आपत्तिजनक मैसेज भेजने के बाद से विपक्ष हमलावार हो गया था। विपक्ष ने इस मामले चन्नी के खिलाफ माेर्चा खोल रखा है। चर्चाएं हैं कि चन्‍नी के कैबिनेट में बने रहने पर फैसला मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के विदेश से लौटने के बाद होगा। बताया जा रहा हे कि चन्नी को इस मामले में जीवनदान मिलने की संभावना बहुत कम है। सारा मामला कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी तक भी पहुंच गया है। सूत्रों के अनुसार, कैप्टन के वापस आने के बाद उनकी राहुल गांधी के साथ बैठक हो सकती है।

 

अाशा बचाव में उतरीं, विवादों में आ गईं : कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी आशा कुमारी ने चन्नी का बचाव किया था, लेकिन वह खुद ही विवादों में पड़ गई हैं। आशा कुमारी ने कहा था कि मैसेज भेजना 'मी टू' का मामला नहीं है। इसके बाद से उनकी निंदा शुरू हो गई। अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने तो आशा कुमारी के जरिए राहुल गांधी पर भी निशाना साधा था। उन्होंने कहा कि आखिर चन्नी को बचाने के लिए राहुल गांधी ने आशा कुमारी काे क्यों आगे किया है। इसी बीच चन्‍नी ने विदेश यात्रा से लौटने के बाद मंगलवार को इस पूरे प्रकरण पर सफाई दी।

 

चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा है कि पूरे मामले को राजनीतिक साजिश के तहत उछाला गया। चन्‍नी ने कहा, मैंने गलती से महिला आईएएस अधिकारी को मैसेज भेज दिया था। इस गलती का पता चलते ही मैंने महिला अफसर से माफी मांग ली और मामला खत्‍म हो गया। इसके बाद मैं विदेश यात्रा पर गया तो शिअद नेताओं ने पूरी साजिश रची और इस पर राजनीति करने लगा।

 

चन्‍नी ने कहा कि इस तरह की घटिया राजनीति करना शर्मनाक है। अकाली दल इस मामले में राजनीति कर रहा है। यह सही नहीं है और इस तरह से उसकी मंशा पूरी होने वाली नहीं है। दूसरी आेर शिरोमणि अकाली दल के विरासा सिंह वल्टोहा का कहना है कि चन्नी पहले कह रहे थे कि शाम को फोन उनके पास नहीं होता है और अब कह रहे हैं कि गलती से मैसेज कर दिया। चन्नी बताएं जो मैसेज बनाया गया वो किसे भेजा जाना थे। य‍ह वास्‍तव में मी टू का मामला है।

COMMENT