--Advertisement--

हाईकोर्ट / घरों के आगे ग्रीनरी अच्छी लगती है, लेकिन यह पार्किंग की जगह नहीं ले सकती



Can not replace greenery parking space
X
Can not replace greenery parking space

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 08:03 AM IST

ललित कुमार, चंडीगढ़. मेरा सरकारी निवास सेक्टर-19 में है और घर के आगे अच्छा खासा ग्रीन एरिया है। आंखों को यह अच्छा भी लगता है लेकिन यदि इसकी वजह से पार्किंग की समस्या होती है तो यह मंजूर नहीं है। यह मौखिक टिप्पणी जस्टिस अमोल रत्न सिंह ने वीरवार को सुनवाई के दौरान की।

 

कोर्ट ने कहा कि घरों व संस्थानों के आगे ग्रीनरी पार्किंग की जगह नहीं ले सकती। ग्रीनरी के नाम पर किए गए अतिक्रमण को हाईकोर्ट ने हटाने के निर्देश दिए हैं। जस्टिस अमोल रत्न सिंह ने अतिक्रमण हटाने के लिए प्रशासन और निगम से समय सीमा पर सवाल किया तो कहा गया कि पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सेक्टर 19 से इसकी शुरुआत की जाएगी।

 

इसके लिए एक महीने का समय दें। कोर्ट ने इस पर कहा कि इस तरह तो शहर के 55 सेक्टरों से अतिक्रमण हटाने के लिए 55 महीने का समय चाहिए जो कोर्ट नहीं दे सकता। ऐसे में प्रशासक के सलाहकार द्वारा नियुक्त नोडल अफसर मामले की अगली सुनवाई पर इस मामले में प्रोग्रेस रिपोर्ट कोर्ट को दे।

 

हाईकोर्ट ने कहा कि निगम कमिश्नर और इस्टेट आॅफिसर सुनिश्चित करें कि घरों, संस्थानों और व्यावसायिक इमारतों के आगे हरियाली के नाम पर किए गए अतिक्रमण को हटाया जाए, जिससे पार्किंग के लिए जगह का इस्तेमाल किया जा सके। कोर्ट ने कहा कि ग्रीनरी के नाम पर अच्छी-खासी जगह को घेरा जा रहा है जिससे पार्किंग की जगह कम होती जा रही है।

 

हाईकोर्ट ने कहा कि यदि किसी के घर में फंक्शन है और मेहमानों के लिए कार पार्किंग की समस्या है तो इसके लिए इलाके की रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन को जानकारी देकर अनुमति लें। यह अनुमति समय विशेष के लिए रहेगी। इसका कड़ाई से पालन किया जाए। सुबह साढ़े छह बजे तक साइकिल ट्रैक छोड़ मुख्य मार्ग को इस्तेमाल करने के मामले पर हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ प्रशासन से जवाब तलब किया है।

 

कोर्ट ने कहा कि जब ट्रैफिक नहीं होता तो एक्सरसाइज करने के लिए साइकिल चलाने वालों को परेशानी झेलनी पड़ती है। ऐसे में प्रशासन जवाब दे कि क्या सुबह साढ़े छह बजे तक साइकिल चलाने वालों को मुख्य मार्ग का इस्तेमाल करने की अनुमति दी जा सकती है या नहीं। इससे पहले कोर्ट ने साढ़े सात बजे तक का समय दिया था जिसमें अब संशोधन किया गया है।
 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..