चंडीगढ़ / जैदी की जमानत रद्द करने के लिए सीबीआई ने कोर्ट में दी अर्जी

शिमला की पूर्व एसपी और केस की गवाह सौम्या को परेशान किया और उन्हें फोन कर अपने पक्ष में गवाही देने के लिए धमकाया शिमला की पूर्व एसपी और केस की गवाह सौम्या को परेशान किया और उन्हें फोन कर अपने पक्ष में गवाही देने के लिए धमकाया
X
शिमला की पूर्व एसपी और केस की गवाह सौम्या को परेशान किया और उन्हें फोन कर अपने पक्ष में गवाही देने के लिए धमकायाशिमला की पूर्व एसपी और केस की गवाह सौम्या को परेशान किया और उन्हें फोन कर अपने पक्ष में गवाही देने के लिए धमकाया

  • केस की गवाह को परेशान करने और दबाव बनाने के आरोप के बाद उठाया कदम
  • सीबीआई की इस अर्जी पर कोर्ट ने 24 जनवरी के लिए नोटिस किया है

दैनिक भास्कर

Jan 21, 2020, 12:33 PM IST

चंडीगढ़. शिमला की गुड़िया रेप-मर्डर केस में पकड़े गए संदिग्ध आरोपी सूरज की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई थी। इस मामले में शिमला के पूर्व आईजी जहूर हैदर जैदी की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ गई हैं। इस केस के बाद से वे जमानत पर हैं, लेकिन अब सीबीआई ने कोर्ट में अर्जी दी है जिसमें उन्होंने जैदी की जमानत रद्द करने की मांग की है।

जैदी पर एक गवाह ने धमकाने और उनके पक्ष में गवाही देने के लिए दबाव बनाने के आरोप लगाए थे। जिसके बाद सीबीआई ने जैदी के खिलाफ ये कार्रवाई की। सीबीआई की इस अर्जी पर कोर्ट ने 24 जनवरी के लिए नोटिस कर दिया है।

सीबीआई ने अर्जी में कहा कि जैदी को जब जमानत मिली थी तब कोर्ट ने शर्त रखी थी कि वे गवाह और सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे। लेकिन उन्होंने शिमला की पूर्व एसपी और केस की गवाह सौम्या को परेशान किया और उन्हें फोन कर अपने पक्ष में गवाही देने के लिए धमकाया।


गुड़िया केस से जुड़ा सूरज की हत्या का है मामला: चार जुलाई 2017 को कोटखाई के एक स्कूल की स्टूडेंट अचानक लापता हो गई थी। दो दिन बाद उसकी लाश जंगल से बरामद हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि उसकी रेप कर हत्या की गई थी। आईजी जैदी की अगुवाई में पुलिस की एक एसआईटी बनी। एसआईटी ने केस को सुलझाने का दावा करते हुए एक स्थानीय युवक और पांच मजदूरों को गिरफ्तार किया था। इनमें एक सूरज नाम का युवक भी था। कोटखाई थाने में इंटेरोगेशन के दौरान सूरज की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। सीबीआई जांच में सामने आया कि पुलिस के टॉर्चर से सूरज की मौत हुई थी। मामले में सीबीआई ने आईजी जहूर हैदर जैदी, एसपी डीडब्ल्यू नेगी, ठियोग डीएसपी मनोज जोशी, कोटखाई के पूर्व एसएचओ राजिंद्र सिंह, एएसआई दीप चंद, हेड काॅन्स्टेबल सूरत सिंह, मोहन लाल, रफी मोहम्मद और कॉन्स्टेबल रंजीत समेत कुल नौ लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया। जैदी, नेगी और जोशी जमानत पर हैं और बाकी सभी इस समय बुड़ैल जेल में हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना