प्राइड / सीएफए ट्रेनी संजीव को पुर्तगाली क्लब ने किया साइन; भारत की अंडर-17 वर्ल्ड कप टीम में डिफेंडर भी रहे

चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी (सीएफए) के 2012 बैच के ट्रेनी संजीव स्टालियन। चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी (सीएफए) के 2012 बैच के ट्रेनी संजीव स्टालियन।
X
चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी (सीएफए) के 2012 बैच के ट्रेनी संजीव स्टालियन।चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी (सीएफए) के 2012 बैच के ट्रेनी संजीव स्टालियन।

  • वर्ल्ड कप अंडर-17 में भी खेली भारतीय टीम का हिस्सा रहे हैं संजीव, अब पुर्तगाल के टॉप क्लब में खेलेंगे
  • संजीव को दाे साल का कॉन्ट्रैक्ट मिला, अभी अंडर-19 और अंडर-23 क्लब टीम से खेलेंगे

दैनिक भास्कर

Feb 14, 2020, 07:42 AM IST

चंडीगढ़. चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी (सीएफए) के एक और ट्रेनी ने वर्ल्ड फुटबॉल मैप पर सक्सेस मार्क हासिल किया है। एकेडमी के 2012 बैच के ट्रेनी रहे संजीव स्टालियन को पुर्तगाल के टॉप क्लब सीडी एवेस ने साइन किया है।

 
19 साल के भारतीय डिफेंडर के लिए ये बड़ी कामयाबी है और वे इससे पहले अंडर-17 वर्ल्ड कप टीम के भी मेंबर थे। भारत ने उस वर्ल्ड कप में एक ही गोल किया था और उस गोल को कॉर्नर से संजीव ने ही प्लेस किया था। इस पर गोल भी चंडीगढ़ एकेडमी के ट्रेनी जैकसन सिंह ने गोल किया था।

संजीव क्लब के साथ ट्रेनिंग कर रहे हैं और उन्होंने ट्रांसफर की सभी फॉर्मेलिटीज को पूरा कर लिया है। संजीव को साइन करने वाली टीम पुर्तगाली प्रीमियर लीग में अच्छा नहीं कर पा रही है और टीम के पास 20 मैचों के बाद 12 अंक ही हैं। टीम के पास लीग में अच्छी जगह बनाने का मौका है।

संजीव एक दमदार डिफेंडर है और उनकी गेम ने क्लब को काफी प्रभावित किया है। सूत्रों के अनुसार फिलहाल उन्हें दाे साल का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। वे अभी अंडर-19 और अंडर-23 क्लब टीम से खेलेंगे। उनके पास अच्छा मौका होगा अपनी गेम दिखाकर सीनियर टीम में जगह बनाने का। वर्ल्ड कप के बाद वे आईलीग में इंडियन एरोज की ओर से खेले। 

संजीव एक इंटेलिजेंट फुटबॉलर हैं

संजीव को तैयार करने वाले कोच और पूर्व भारतीय कप्तान हरजिंदर सिंह उन्हें एक इंटेलिजेंट फुटबॉलर मानते हैं। कोच ने कहा कि वह पूरा गेम पैर के साथ साथ दिमाग से भी खेलता है। चंडीगढ़ के साथ साथ जिस भी टीम से वह खेला, उसने उस टीम को मजबूत बनाया है। वर्ल्ड कप में भी उसका गेम बेस्ट था। पुर्तगाल जैसे सॉकर प्लेइंग कंट्री को संजीव की गेम पसंद आना, अपने आप में ही उसकी क्लास को दिखाता है।

रिजर्व में रहने के बाद वर्ल्ड कप खेले
संजीव चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी के प्रोडक्ट हैं। वे वर्ल्ड कप की टीम का हिस्सा नहीं थे। एक फ्रैंडली मैच में उनपर कोच की नजर पड़ी और उन्हें टीम के साथ जोड़ा गया। काेच लुइस नॉर्टन की पहली पसंद लेफ्ट बैक पोजिशन के लिए संजीव थे और वे अच्छी फ्री-किक व कॉर्नर किक ले सकते थे। उन्होंने अपना पहला गोल एएफसी अंडर-16 चैंपियनशिप में यूएई के खिलाफ फ्री-किक पर दागा था। 
 

सीनियर्स की राह पर संजीव

संजीव अपने सीनियर सॉकर स्टार्स के नक्शे कदम पर चल रहे हैं और पुर्तगाल क्लब के साथ जुड़ने वाले वे पहले भारतीय नहीं हैं। इंडियन टीम के स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री को लिस्बन के स्पोर्टिंग क्लब ने साइन किया था, जबकि पिछले सीजन में साहिल तवोरा को थर्ड टायर क्लब जीडीएससी एलवारेंगा ने अपने साथ जोड़ा था। संजीव आईलीग में अभी तक 28 मैच इंडियन एरोज के लिए खेल चुके हैं। सुपर कप में भी वे खेले हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना