चंडीगढ़ / कंज्यूमर फोरम ने बायजूस लर्निंग एप व ऐड करने वाले एक्टर शाहरुख खान को भेजा नोटिस



शाहरुख खान(फाइल फोटो) शाहरुख खान(फाइल फोटो)
X
शाहरुख खान(फाइल फोटो)शाहरुख खान(फाइल फोटो)

  • 10वीं क्लास की स्टूडेंट ने 85,500 रुपए में पैकेज लिया, रिटर्न किया तो नहीं मिली पेमेंट

Dainik Bhaskar

Nov 08, 2019, 11:47 AM IST

पंचकूला. पंचकूला कंज्यूमर फोरम की ओर से बायजूस लर्निंग एप और इसकी ऐड करने वाले बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान को शोकॉज नोटिस जारी किया गया है। नोटिस जारी कर दोनों को 30 दिसंबर 2019 को होने वाली अगली सुनवाई में मौजूद होकर जवाब दायर करने को कहा गया है।

 

इस तरह का यह पहला ऐसा मामला है जिसमें कंज्यूमर फोरम की ओर से कंपनी और उसका विज्ञापन करने वाले अभिनेता को नोटिस जारी किया गया है। वकील पंकज चांदगोठिया ने बताया कि कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 के तहत कंपनी के साथ-साथ शाहरूख खान को भी नोटिस जारी किया गया है।

 

आमतौर पर बच्चे बड़ी सेलिब्रिटी की ओर से ऐड किए जाने वाले ब्रांड पर भरोसा करते हैं और उसका इस्तेमाल भी करते हैं। सेक्टर-6 की मानस्वी जैन 10वींं क्लास में पढ़ती है। मानस्वी के पिता मनीष जैन के पास बायजूस लर्निंग एप के करियर काउंसलर ध्रुव शर्मा अपना एप बेचने पहुंचे।

 

मानस्वी के पिता को एप खरीदने के लिए तैयार भी कर लिया। कंज्यूमर के घर जाकर एप को पूरी तरह से डेमो दिया गया। मानस्वी को मेडिकल फील्ड में आगे पढ़ाई करनी थी। ऐसे में करियर काउंसलर ध्रुव शर्मा ने उन्हें व उनके पिता को 3 साल के पैकेज लेने को तैयार कर लिया।

 

मानसी के पिता मनीष जैन ने बताया कि उन्हें पैकेज खरीदने के समय बताया गया था कि अगर पैकेज खरीदने के 15 दिन के भीतर उन्हें पैकेज पसंद नहीं आया तो वे अपना पैसा वापस ले सकते हैं। कंज्यूमर के पिता ने पैकेज प्रोग्राम खरीदने के लिए कुछ दिन सोचने का समय मांगा।

 

यहां तक कि लर्निंग एप कंपनी के करियर काउंसलर की ओर से एप की कुल राशि 1 लाख पर करीब 12 से 13 प्रतिशत डिस्काउंट देने की बात कही। 1 सितंबर 2019 को कंज्यूमर के पिता ने अपनी बेटी की मेडिकल फील्ड की बेहतरीन पढ़ाई के लिए लर्निंग का पैकेजिंग प्रोग्राम खरीदा और उसके बदले में उन्होंने 88500 रुपए दिए।

 

पिता ने बताया कि बॉलीवुड स्टार शाहरूख खान जिस ब्रांड की ऐड कर रहे हों, वह वह गलत नहीं होगा, इसलिए उन्होंने लर्निंग एप पैकेज खरीदा। 10 सितंबर 2019 से पैकेज का इस्तेमाल करना शुरू किया। कुछ दिनों बाद कंज्यूमर पैकेज के माध्यम से मिलने वाले स्टडी मैटीरियल से मानस्वी संतुष्ट नहीं हुई और उन्होंने लर्निंंग एप काउंसलर ध्रुव शर्मा को गलत काउंसलिंग दिए जाने की बात कही।

 

लर्निंग एप पैकेज के 5 दिन के इस्तेमाल के बाद कंज्यूमर व उसके पिता ने लर्निंग एप ड्रॉप करने का फैसला लिया और करियर काउंसलर जो बाद में मार्केटिंग पर्सन निकला, उसे पैसा वापस करने को कहा। कंज्यूमर के पिता मनीष जैन ने कई बार फोन व ई-मेल के माध्यम से पैसा वपस करने को कहा, लेकिन पैसा वापस करने से मना कर दिया।

 

इसके बाद मामले की शिकायत कंज्यूमर फोरम में की गई। फोरम के प्रधान सतपाल की ओर से कंपनी व उसके एंडोर्सर को 30 दिसंबर 2019 को होने वाली सुनवाई में पेश होने के लिए कहा गया है।


ये है नियम: वकील पंकज चांदगोठिया ने बताया कि किसी भी सेलिब्रिटी की ओर से ऐड किए जाने वाले ब्रांड को बच्चे बिना किसी रिसर्च किए ही सेलिब्रिटी पर भरोसा करते हुए इस्तेमाल करने लगते हैं। कुछ मामले ऐसे भी सामने आए हैं जिसमें ब्रांड की ओर से सही सर्विसेज नहीं दिए जाने पर उनके एंडोर्सर उनसे अलग हो जाते हैं। हालांंकि कंज्यूमर फोरम के नए एक्ट के तहत अब सर्विस प्रोवाइडर के साथ एंडोर्सर पर पेनल्टी लगाए जाने का प्रोविजन है। पेनल्टी की राशि 10 लाख तक हो सकती है और वह सेलिब्रिटी एक साल तक किसी ब्रांड को एंडोर्स नहीं कर सकता। दूसरी बार इस तरह के वाक्य होने पर 50 लाख तक पेनल्टी का प्रोविजन है और तीन साल का एंडोर्समेंट पर बैन लगाया जा सकता है। तीसरी बार ऐसा होने पर हमेशा के लिए सेलिब्रिटी किसी भी ब्रांड को एंडोर्स नहीं कर सकता है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना