पंजाब / 6 हजार करोड़ का ड्रग रैकेट: अनूप काहलों को 15, पंजाब पुलिस के पूर्व डीएसपी भोला को 12 साल की कैद



Court may give decision on 6 thousand crore rupees drug racket operated from Punjab.
X
Court may give decision on 6 thousand crore rupees drug racket operated from Punjab.

  • 2013 में हुआ था पंजाब से चल रहे अंतरराष्ट्रीय स्तर के ड्रग रैकेट का पर्दाफाश
  • जांच के दौरान कई हाईप्रोफाइल, राजनीतिज्ञों और सफेदपोश लोगों के नाम सामने आए
  • अकाली नेता चुन्नी लाल गाबा के घर से मिली डायरी के आधार पर की जा चुकी 61.62 करोड़ की प्रॉपटी अटैज

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 08:28 PM IST

चंडीगढ़. पंजाब के सबसे बड़े ड्रग रैकेट केस में बुधवार को मोहाली की सीबीआई कोर्ट से फैसला आया है। आज यहां इस रैकेट से जुड़े 7 अलग-अलग मामलों की सुनवाई हुई, जिस दौरान इस रैकेट के मुख्य आरोपी पंजाब पुलिस के पूर्व डीएसपी जगदीश भोला समेत तमाम 10 दोषियों को पेश किया गया था। अब भोला को एक केस में 12 साल की तो दूसरे केस में 10 साल की कैद का फैसला आया है। साथ ही कई अन्य को जहां 10-10 साल की कैद की सजा सुनाई गई, वहीं सबसे पहले गिरफ्तार किए गए अनूप काहलों को एक केस में सबसे ज्यादा 15 साल की कैद का फैसला आया है।


दरअसल साल 2013 में ड्रग तस्करी में अनूप काहलों नामक एक युवक को पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इस मामले में पंजाब पुलिस में डीएसपी के पद पर कार्यरत जगदीश भोला समेत कई कई हाईप्रोफाइल, राजनीतिज्ञों और सफेदपोश लोगों के नाम सामने आए थे। इनमें एक नाम अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया का भी था। जगदीश भोला ने गिरफ्तारी के बाद ही पूछताछ में मजीठिया का नाम लिया था, लेकिन तत्कालीन सरकार से मजीठिया को इस मामले में क्लीन चिट मिल चुकी है।

 

तमाम जांच-पड़ताल के बाद सीबीआई ने इस रैकेट के संबंध में 7 अलग-अलग केस चलाए। इस ड्रग रैकेट में सीबीआई अदालत ने 70 लोगों को आरोपी बनाया और इनमें से अदालत ने 10 लोगों जगदीश भोला, दविंदर हैप्पी, सुखजीत सिंह, देविंदर कांत शर्मा, बसावा सिंह, अनूप काहलों, देविंदर बहल, राकेश, कुलविंदर रॉकी, गुरजीत गाबा और सचिन सरदाना को दोषी करार दिया था।


इस मामले में गोराया के शिरोमणि अकाली दरल के नेता चुन्नी लाल गाबा का नाम भी सामने आया था। जब ईडी ने कार्रवाई शुरू की तो आईटी विभाग ने गाबा के घर छापा मारा था। इस दौरान आईटी विभाग को गाबा के घर से एक डायरी मिली, जिसमें उसके कई हाईप्रोफाइल लोगों से लेन-देन का हिसाब था। ड्रग तस्करी से जुड़े लोगों की ईडी द्वारा 61.62 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टीज अटैच की जा चुकी हैं।

COMMENT