कोर्ट का फैसला / पीपीएल के लाइसेंस पर ही बजेगा न्यू ईयर पर डीजे, सात क्लबों पर लगाई स्टे

सिंबोलिक फोटो सिंबोलिक फोटो
X
सिंबोलिक फोटोसिंबोलिक फोटो

  • पीपीएल की तरफ से बाॅम्बे और पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में दायर की गई थी याचिका
  • याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने जारी किए आदेश, पुलिस को अनुपालन कराने को कहा

दैनिक भास्कर

Dec 23, 2019, 01:22 PM IST

चंडीगढ़. नए साल पर अगर कोई क्लब, रेस्तरां या ओपन स्पेस पर डीजे बजाता है तो उसके लिए अब फोनोग्राफिक्स परफार्मेंस लिमिटेड यानि पीपीएल का लाइसेंस लेना अनिवार्य होगा। पीपीएल की तरफ से बाॅम्बे और पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में दायर याचिका पर कोर्ट ने यह आदेश जारी किए है।

पीपीएल की याचिका पर कोर्ट का फैसला

चंडीगढ़ के 7 बड़े क्लब और रेस्तरां के खिलाफ पार्टी में पीपीएल से संबंधित म्यूजिक बजाने पर कोर्ट ने स्टे ऑर्डर भी जारी कर दिए हैं। पुलिस को आदेश का अनुपालन कराने को कहा है। अगर यहां डीजे में गाने बजते हैं तो यह कोर्ट की अवमानना के दायरे में आएगा। दरअसल, पीपीएल की तरफ से उनके नार्थ इंचार्ज ने कोर्ट में याचिका दायर की थी। इसके बाद यह आदेश आए हैं। इससे पहले पिछले साल भी पीपीएल की याचिका पर चंडीगढ़ डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने शहर के 23 रेस्तरां और क्लब पर स्टे आर्डर जारी किए थे। इनमें तीन की स्टे हटी थी। इनके खिलाफ भी पीपीएल पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट जा चुका है।

पीपीएल की शिकायत पर ही हो चुकी है कार्रवाई

देश की म्यूजिक इंडस्ट्री के लोगों की ओर से बनाई गई संस्था के जरिए उनके म्यूजिक की पब्लिक परफार्मेंस करने पर लॉयल्टी फीस ली जाती है। चूंकि उनका म्यूजिक क्लबों में बजाकर मोटी रकम ली जाती है। इससे पहले पीपीएल की शिकायत पर ही पिछले साल डोमिनोज पीजा के खिलाफ भी थाना 36 में कॉपी राइट एक्ट का केस दर्ज हुआ था, जो कि अभी तक अदालत में विचाराधीन है। संजीव वधवा ने बताया कि शहर के कुछ ओनर अपने रसूख के चलते लाइसेंस नहीं ले रहे हैं, जिस पर वे दो क्लबों के खिलाफ सीआरपीसी की धरा 156/3 के तहत एफआईआर दर्ज करवाने के लिए कोर्ट भी जा चुके हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना