आक्रोश / मोहाली में जुटे यूटी और पंजाब के हजारों कर्मचारी व पेंशनर्स, विधानसभा की ओर कूच करने की तैयारी



employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
X
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab
employees and the pensioners on protest against the Government of Punjab

  • विधानसभा में चल रहे बजट सत्र में मौजूद नेताओं को घेरने के मूड में हैं प्रदर्शनकारी संगठन
  • प्रशासन ने मोहाली-चंडीगढ़ की सीमा को पूरी तरह से सील किया

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 03:27 PM IST

मोहाली (लखवंत सिंह). मोहाली में बुधवार को पंजाब और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के हजारों कर्मचारी जमा हैं। ये लोग सुबह से ही सरकार के खिलाफ नारे लगा रहे हैं, वहीं विधानसभा में चल रहे बजट सत्र में मौजूद नेताओं को घेरने का मूड है। दूसरी ओर इस आंदोलन की चेतावनी के चलते पुलिस प्रशासन ने पहले से ही कमर कस रखी है। मोहाली-चंडीगढ़ की सीमा को पूरी तरह से सील किया गया है। ऐसे में अगर कर्मचारी आगे बढ़ते हैं तो टकराव की स्थिति से इनकार नहीं किया जा सकता।

 

यह है नाराजगी की वजह: अध्यापक नेताओं ने बताया कि ईजीएस, एआईई, एसटीआर, आईईवी, आईईआरटी, शिक्षा प्रोवाइडर्स की सेवाओं को पक्का करने की जगह दशकों से कच्चे रखकर उनका शोषण किया जा रहा है। 8886 एसएसए, रमसा, आदर्श स्कूल अध्यापकों की वेतन कटौती को वापस लेने की बजाय मिल रहे वेतनों पर रोक लगाई जा रही है। विभाग के 5178 अध्यापकों को नियुक्ति पत्र की शतों के अनुसार भी रेगुलर करने का नोटिफिकेशन जारी करने से इनकार किया जा रहा है। इसी के चलते उन्हें प्रदर्शन पर मजबूर होना पड़ रहा है।

 

ये हैं साथ: इससे पहले रविवार को प्रदेशभर के अध्यापकों ने सांझा अध्यापक कमेटी के बैनर तले राज्य सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया था। जिस वक्त ये लोग मोती महल स्थित मुख्यमंत्री आवास को घेरने की तैयारी में थे, पुलिस के साथ अच्छी-खासी धक्का-पेल हुई। पुलिस को लाठीचार्ज भी करना और वाटर कैनन का इस्तेमाल करना पड़ा। इस दौरान कई अध्यापकों को चोटें आई थी, जिसकी निंदा पूरे प्रदेश में विपक्ष की राजनीति और कर्मचारी जत्थेबंदियों में हर तरफ हो रही है। मांगें नहीं मानने के चलते 13 फरवरी को यूटी और पंजाब कर्मचारी और पेंशनर्स संघर्ष कमेटी के आह्वान पर मोहाली में होने जा रहे प्रदर्शन में अध्यापक संघर्ष कमेटी द्वारा हिस्सा लेने का फैसला भी किया गया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना