मुकाबला / एशियन जूनियर चैंपियनशिप में हिस्सा लेने को लेकर नेशनल जूनियर शटलर्स ने चंडीगढ़ में किया अभ्यास



Exercises by shuttleers players
X
Exercises by shuttleers players

  • ट्राईसिटी के बैडमिंटन कोर्ट पर जारी है तैयारी
  • टीम में 23 शटलर्स शामिल हैं और भारतीय शटलर्स मेडल के बड़े दावेदारों में शामिल हैं

Dainik Bhaskar

Jul 14, 2019, 12:16 PM IST

चंडीगढ़. बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया(बीएआई) चीन के सुझोऊ में होने वाली एशियन जूनियर चैंपियनशिप के लिए इंडियन टीम फाइनल कर चुकी है और जूनियर स्टार्स ट्राईसिटी के कोर्ट पर लगातार पसीना बहा रहे हैं। टीम में 23 शटलर्स शामिल हैं और भारतीय शटलर्स यहां पर मेडल के बड़े दावेदारों में शामिल हैं।

 

इंडियन टीम का कैंप पंचकूला के ताऊ देवी लाल स्टेडियम में लगाया गया है और आगामी मुकाबलों के लिए टीम ने सेक्टर-38 स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के सेंटर ऑफ बैडमिंटन एक्सीलेंस में मैच प्रैक्टिस की। कोचेज ने सेक्टर-38 के बैडमिंटन कोर्ट पर सभी प्लेयर्स के शॉट्स को परखा और उनके गलत शॉट्स को सही भी किया।

 

बॉयज टीम का चैलेंज मणिपुर के माइसाराम के हाथों में होगा। उन्होंने 1000 अंको के साथ टीम में जगह बनाई है। उन्होंने नेशनल टाइटल जीतने के बाद ये अंक हासिल किए। माइराबा बॉयज सिंगल्स सेक्शन में टॉप पर हैं जबकि तमिल शटलर सतीश कुमार, सिद्धांत गुप्ता और मुत्थुस्वामी उनके बाद लिस्ट में काबिज हैं।

 

पिछली चैंपियनशिप में लक्ष्य सेन ने गोल्ड मेडल जीता था और ये टाइटल उन्होंने 54 साल के बाद देश को दिलाया था। टीम के साथ जूनियर नेशनल कोच संजय मिश्रा भी होंगे।

 

इंडियन गर्ल्स टीम को लीड एयरपोर्ट अथॉरिटी की युवा शटलर मालविका बानसोड कर रही हैं। टीम में मालविका के बाद दिल्ली की अर्शी रावत, उन्नति बिष्ट भी हैं। अंडर-15 एशियन जूनियर चैंपियनशिप की गोल्ड मेडलिस्ट सामिया इमाद फारुखी भी लिस्ट में शामिल है।

 

नेशनल चैंपियनशिप के नतीजों के आधार पर ही सभी का सलेक्शन किया गया है। इसमें विजेता प्लेयर को 500 पॉइंट्स मिलते हैं जबकि रनरअप टीम को 425 अंक। नेशनल सेमीफाइनलिस्ट को 350 और क्वार्टर फाइनलिस्ट को 275 अंक मिलते हैं। गर्ल्स की टीम काफी स्ट्रॉन्ग है और मेडल जीतने की दावेदार भी।

 

COMMENT