डेराबस्सी / कांग्रेसी नेता के बेटे को मारी पांच गोलियां, कार में साथ बैठा दोस्त निकला इन्फॉर्मर



Five bullets shot on Congress leader son
X
Five bullets shot on Congress leader son

  • दोस्त ने टॉयलेट के बहाने कार रुकवाई और भेज दी वॉट्सएप लोकेशन
  • ट्राईसिटी में बढ़ रही गैंगवॉर, डेराबस्सी में चली गाेलियां 

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 07:29 AM IST

डेराबस्सी. डेराबस्सी खेड़ी गुज्जरां रोड पर दो बाइकों पर सवार चार युवक कार चला रहे कांग्रेसी नेता के बेटे लखविंदर उर्फ लक्की पर गोलियां बरसा कर फरार हो गए। लक्की को पांच गोलियां लगीं। उसे जीएमसीएच सेक्टर-32 चंडीगढ़ में भर्ती कराया गया है। आरोपियों में से दो युवकों ने एक वीडियो बनाकर गोलियां चलाने की जिम्मेदारी ली है। पुलिस ने लखविंदर के बयान पर बिट्टू, संजू, गीतू, मनीष उर्फ बिट्टू, सभी निवासी गांव खेड़ी गुज्जरां और रणजीत मिंटा वासी मुकंदपुर के खिलाफ आईपीसी 307, 506, 148 व 149 के अलावा आर्म्स एक्ट की धारा 25,27,54 व 59 के तहत केस दर्ज कर लिया है। लक्की का इलाज सेक्टर-32 हॉस्पिटल में चल रहा है। 
 

दो बाइकों पर आए थे चार हमलावर : 

गांव खेड़ी गुज्जर के 28 साल के लखविंदर सिंह ने बताया कि मां रोशनी देवी कांग्रेस पार्टी ब्लॉक समिति सदस्य हैं। पार्टी टिकट न मिलने पर कुछ युवक उससे रंजिश रखते थे, जिन्होंने मंगलवार रात उस पर हमला किया। वह मियांपुर की ओर से पंच बिट्टू के साथ कार से घर लौट रहा था। माहिवाला चौक के पास उसके साथ बैठे बिट्टू ने टॉयलेट करने की बात कहकर कार रुकवाई। इसी दौरान 2 बाइकों पर चार युवक पहुंचे और ड्राइवर साइड वाली खिड़की की ओर से गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। लक्की पर छह फायर किए गए, जिनमें से एक गोली दाएं कंधे, एक दाईं कोहनी, एक दाईं ऊपरी छाती और दो गोलियां पेट में लगी। इसके बाद हमलावर फरार हो गए। लक्की मदद के लिए चिल्लाता रहा, लेकिन उसका साथी बिट्टू लौटा ही नहीं। लक्की ने बताया कि बिट्टू ही वॉट्सएप से हमलावरों को लोकेशन बता रहा था। उसी ने करीब रात सवा 10 बजे तय स्थान पर कार रुकवाई और खुद बाथरूम के बहाने नीचे उतर गया। 
 

5 गोलियां लगने के बाद भी खुद कार चलाकर थाने पहुंचा : 

पांच गोलियां लगने के बावजूद लक्की कार लेकर 3 किलोमीटर दूर डेराबस्सी पुलिस स्टेशन पहुंचा। उसके मुताबिक अंदर एसआई नरिंदर सिंह और हवलदार पाल महिंदर मौजूद थे। मदद की गुहार की, लेकिन उन्होंने उसे अस्पताल पहुंचाने तक की जहमत नहीं उठाई। इस पर दोबारा गाड़ी स्टार्ट कर वह खुद ही हॉस्पिटल पहुंचा और गांव वालों को सूचित किया। रात 11:20 बजे अस्पताल पहुंचने के बाद उसे डेराबस्सी से जीएमसीएच-32 रेफर किया गया। इसी एंबुलेंस में ही घायल अवस्था में लक्की ने अपनी खुद की वीडियो बनाई और पुलिस के बर्ताव की निंदा की। वहीं, एएसआई नरिंदर सिंह ने कहा कि पहला काम अस्पताल पहुंचाने का था, लेकिन लक्की बिना मदद के अस्पताल पहुंच गया।    
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना