चंडीगढ़ / गाेपाल मणि महाराज की मांग- गाय काे राष्ट्रमाता का दर्जा दिया जाना चाहिए



Ganga Kripakankshi Gopal Mani Maharaj is in the city for Dhenumas Gaukatha.
X
Ganga Kripakankshi Gopal Mani Maharaj is in the city for Dhenumas Gaukatha.

  • बोले गाय काे राष्ट्रमाता का दर्जा दिलाने का संघर्ष कर रहे गंगा कृपाकांक्षी गाेपाल मणि महाराज

Dainik Bhaskar

Aug 21, 2019, 07:12 PM IST

चंडीगढ़. गाय काे राष्ट्रमाता का दर्जा दिलाने के लिए मैं पिछले 11 वर्षाें से संघर्ष कर रहा हूं। सबसे पहले मैंने 30 वर्ष तक राम, शिव व भागवत कथा करने के बाद गाय के महत्व काे जाना। तब 2008 में मैंने 6 महीने तक हिमालय पर्वत पर 108 ब्राहमणाें द्वारा यज्ञ किया अाैर 1 साल बाद धेनु मानस किताब लिखी । ये बात गंगा कृपाकांक्षी गाेपाल मणि महाराज ने गाय काे राष्ट्रमाता का दर्जा दिलाने के लिए किए जा रहे संघर्ष की बात बताते हुए कही।

 

उन्होंने बताया कि 6 महीने बाद मुझे लगा कि इसके लिए अांदाेलन करना चाहिए। इसलिए उन्हाेंने 23 फरवरी 2014 काे दिल्ली के रामलीला ग्राउंड में रैली निकाली। जब 3 बार अांदाेलन के बाद उनकी मांग पूरी नहीं हुई ताे वह 2011 से 2012 तक 1 साल के लिए हिमालय पर्वत पर चल गए अाैर वहां पर न केवल माैन रहे बल्कि माैन के दाैरान उंन्हाेंन गऊअाें काे चराया अाैर उनके गाेबर से बनी राेटी ही खाई। गऊशाला में रहकर उन्हाेंने ये जाना कि किस तरह से अपनी मांग पूरी करवाई जाए।

 

देश में 350 गऊशाला: देश में लगभग 350 गऊशाला खाेली । 3 साल में धेनु मानस ग्रंथ लिखा, ये 420 पेज का ग्रंथ है तब से 800 से ज्यादा जगहाें पर गाै कथा कर चुके हैं। अब कथा से देश के काेने काेने में जाकर लाेगाें काे गाय काे माता का दर्जा दिलाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। उन्हाेंने बताया कि इसके लिए कुछ भी करना पड़े लेकिन वह गाै माता काे राष्ट्रमाता का दर्जा दिलाकर ही रहेंगे।

 

24 से 28 तक धेनुमानस गाैकथा : गाेपाल गाेलाेक धाम गाैशाला कैंबवाला में धेनुमास गाैकथा के लिए अाए महाराज ने बताया कि यहां पर 24 से 28 अगस्त तक कथा हाेगी। इसका अायाेजन श्री कृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्षय में किया जा रहा है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना