कोरोनावायरस / ट्राइसिटी में बुजुर्गाें के लिए शुरू की हेल्पलाइन, बाहर न निकलने की सलाह

2 युवाओं की ओर से शुरू किए गए इस सोशल स्टार्टअप में पहले तो बुजुर्गों को रिटायरमेंट के बाद लंबे जीवन को यूज़फुल तरीके से जीने का कोर्स कराया जाता था, लेकिन अब यह एनजीअाे कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए अपने दूसरे बैच को पोस्टपाेन करके अब वह नए काम में जुट गए हैं 2 युवाओं की ओर से शुरू किए गए इस सोशल स्टार्टअप में पहले तो बुजुर्गों को रिटायरमेंट के बाद लंबे जीवन को यूज़फुल तरीके से जीने का कोर्स कराया जाता था, लेकिन अब यह एनजीअाे कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए अपने दूसरे बैच को पोस्टपाेन करके अब वह नए काम में जुट गए हैं
X
2 युवाओं की ओर से शुरू किए गए इस सोशल स्टार्टअप में पहले तो बुजुर्गों को रिटायरमेंट के बाद लंबे जीवन को यूज़फुल तरीके से जीने का कोर्स कराया जाता था, लेकिन अब यह एनजीअाे कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए अपने दूसरे बैच को पोस्टपाेन करके अब वह नए काम में जुट गए हैं2 युवाओं की ओर से शुरू किए गए इस सोशल स्टार्टअप में पहले तो बुजुर्गों को रिटायरमेंट के बाद लंबे जीवन को यूज़फुल तरीके से जीने का कोर्स कराया जाता था, लेकिन अब यह एनजीअाे कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए अपने दूसरे बैच को पोस्टपाेन करके अब वह नए काम में जुट गए हैं

  • ट्राइसिटी के बुजुर्गों के लिए ग्रे शेड उपलब्ध कराने वाला है दवाएं, ग्रॉसरी और अन्य सामान
  • वॉलिंटियर्स के जरिए बुजुर्गों को उपलब्ध करावाया जाएगा सामान, 3 हेल्पलाइन नंबर शेयर किए

दैनिक भास्कर

Mar 20, 2020, 05:50 PM IST

चंडीगढ़. आपका जीवन और आप हमारे लिए खास हैं और हम चाहते हैं कि आप सुरक्षित रहें, कोरोना से बचने के लिए आप घर पर ही रहें और हमें बताएं कि आपको क्या चाहिए। इन्हीं शब्दों के साथ ट्राइसिटी के बुजुर्गों के लिए ग्रे शेड उपलब्ध कराने वाला है- दवाएं, ग्रॉसरी और अन्य सामान।

2 युवाओं की ओर से शुरू किए गए इस सोशल स्टार्टअप में पहले तो बुजुर्गों को रिटायरमेंट के बाद लंबे जीवन को यूज़फुल तरीके से जीने का कोर्स कराया जाता था, लेकिन अब यह एनजीओ कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए अपने दूसरे बैच को पोस्टपाेन करके अब वह नए काम में जुट गए हैं।

अपने ही सोशल स्टार्टअप में पहले ट्रेनिंग कर चुके वॉलिंटियर्स और कुछ सोशल मीडिया से तलाशे विश्वसनीय वॉलिंटियर्स के जरिए यह सुविधा बुजुर्गों को उपलब्ध कराने वाले हैं। इसके लिए उन्होंने बकायदा 3 हेल्पलाइन नंबर भी शेयर किए हैं।ग्रे शेड करीब तीन साल से रजिस्टर्ड है और पिछले अगस्त में उन्होंने यहां पर एक फैलोशिप प्रोग्राम चला रहे हैं। इसकाे शुरू करने वाले इंद्रप्रीत सिंह अाैर वायाेना डिसूजा ने इंडियन स्कूल ऑफ डवलपमेंट मैनेजमेंट दिल्ली से आपने डवलपमेंट मैनेजमेंट का काेर्स किया है अाैर दाेनाें ने अपना साेशल स्टार्टअप शुरू किया।

उनका साथ दे रही हैं पंचकूला की काउंसलर नताशाा सेख। मुंबई की वायाेना बताती हैं कि उन्हाेंने अपने दादा-दादी काे रिटायरमेंट के बाद दाे ही काम करते देखा वह टीवी देखते और वॉक के लिए जाते थे। दादा जी 96 की उम्र तक ऐसे ही रहे। उनको लगता था कि बुजुर्ग कुछ प्रोडक्टिव कर सकते हैं इसलिए एक काेर्स डिजाइन किया जिसमें बुजुर्गाें काे खुद को अपनी बात करने का मौका दिया जाता है। आर्ट थेरेपी, योगा, मेडिटेशन आदि इसका हिस्सा रहता है। स्कूल ऑफ सीनियर सिटीजन के इस प्राेग्राम का पहला बैच उन्हाेंने कराया और दूसरे के लिए भी उन्हाेंने स्काॅलरशिप तलाश ली थी।

ये पेड कोर्स है। क्राउड फंडिंग और डोनेशन के अलावा वह सीएसआर से रकम जुटा रहे हैं। काेराेना वायरस का खतरा देखा ताे काेर्स बंद कर दिया अाैर साेचा कि सीनियर्स घर पर रहेंगे और उनको इंफेक्शन से बचाना जरूरी है। चंडीगढ़ में बहुत से सीनियर अकेले हैं। आइडिया साेशल मीडिया पर फ्लोट किया तो 50 वालंटियर्स मिल गए हैं। ग्रॉसरी और मेडिसन के लिए हेल्पलाइन नंबर्स पर संपर्क करेंगे ताे पंचकूला-चंडीगढ़-मोहाली में मेन कोआर्डिनेटर उन तक सामान पहुंचा देंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना