चंडीगढ़ / महीने में शहर से अवैध स्ट्रीट वेंडर्स हटाओ, पुलिस-प्रशासन भी सहयोग करे: हाईकोर्ट



High court directed to eliminate all illegal vendors in one month.
X
High court directed to eliminate all illegal vendors in one month.

  • सर्वे के मुताबिक 9,356 रजिस्टर्ड वेंडर्स हैं, जबकि पूरे शहर में 22 हजार से ज्यादा वेंडर्स रेहड़ी-फड़ी लगा रहे हैं
  • अफसरों की मिलीभगत से अवैध वेंडर्स कर रहे काम
  • हाईकोर्ट के ऑर्डर के बाद एमसी की टीम प्लाजा में पहुंची और वेंडर्स के लाइसेंस चेक किए

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2019, 11:28 AM IST

चंडीगढ़. ये कैसे हो सकता है कि शहर में 9,356 रजिस्टर्ड वेंडर्स हों और 22 हजार से ज्यादा वेंडर्स रेहड़ी-फड़ी लगा रहे हों। इसका मतलब सीधा है कि अफसरों की मिलीभगत से अवैध रेहड़ी फड़ी लग रही हैं। डीसी को चाहिए कि वे अपने आॅफिस से नीचे उतरकर देखें कि शहर का क्या हाल है?

 

उनकी नाक के नीचे सेक्टर-17 प्लाजा में ही बड़े-बड़े फड़ लग रहे हैं, लेकिन कोई देखने वाला नहीं। इन मौखिक टिप्पणियों के साथ हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ प्रशासन और नगर निगम को एक महीने में शहर से सभी अवैध स्ट्रीट वेंडर्स को हटाने के निर्देश दिए हैं।


जस्टिस राजीव शर्मा और जस्टिस एचएस सिद्धू की खंडपीठ ने फैसले में कहा कि पुलिस अवैध वेंडर्स को हटाने में निगम और प्रशासन को पूरा सहयोग दे। कोर्ट ने मामले पर 17 अक्टूबर के लिए अगली सुनवाई तय करते हुए स्टेटस रिपोर्ट मांगी है।


सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि 5,034 वेंडर्स को अलाॅट की गई साइट पर शिफ्ट किया जाए। सर्वे के मुताबिक 9,356 रजिस्टर्ड वेंडर्स हैं, जबकि पूरे शहर में 22 हजार से ज्यादा वेंडर्स रेहड़ी-फड़ी लगा रहे हैं। कोर्ट ने इस पर कहा कि जिन वेंडर्स के पास लाइसेंस नहीं हैं, उन्हें हटाया क्यों नहीं जा रहा।

 

प्रशासन और नगर निगम इस मामले में कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे? इस पर चंडीगढ़ प्रशासन की तरफ से कोर्ट से समय दिए जाने की मांग की गई। नगर निगम के कमिश्नर केके यादव सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट में मौजूद रहे।

 

प्रशासन के सीनियर स्टैंडिंग काउंसिल पंकज जैन और वकील अनिल मेहता ने कहा कि जनवरी महीने से लेकर इस साल में 1,819 अवैध वेंडर्स को हटाया गया है। अवैध वेंडर्स को हटाने की दिशा में काम किया जा रहा है, लेकिन इसके लिए पुलिस से पूरी मदद की दरकार है।
 
सेक्टरों की हालत खराब: जस्टिस राजीव शर्मा ने कहा कि इस मामले में पूरी ईमानदारी से काम करने की जरूरत है। सभी को यह समझना चाहिए कि यह शहर उनका है और अवैध रेहड़ी-फड़ी वाले हटते हैं तो यह शहर के लिए बेहतर होगा। शहर की सुंदरता और सेक्टरों की हालत अवैध रेहड़ी फड़ी लगाने वालों ने खराब कर रखी है। केस की पैरवी कर रहे वकीलों को जस्टिस राजीव शर्मा ने कहा कि 'मैं तो रिटायर होकर चला जाऊंगा लेकिन उन्हें इस शहर में रहना है। ऐसे में उन्हें मामले की गंभीरता को समझना चाहिए'।


चीफ जस्टिस के पास मामला विचाराधीन: सुनवाई के दौरान चंडीगढ़ प्रशासन की तरफ से कहा गया कि स्ट्रीट वेंडर्स कौन हैं, इस पर चीफ जस्टिस की स्पेशल बेंच सुनवाई कर रही है। मामले पर बुधवार को सुनवाई होनी है। इसके साथ सेक्टर 17 से फड़ी वालों को हटाए जाने, सेक्टर 19 में दुकानों के आगे पार्किंग से अतिक्रमण हटाए जाने और सेक्टर 15 के वेडिंग जोन को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। इन अलग अलग याचिकाओं पर भी एक साथ सुनवाई की जा रही है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना