चंडीगढ़ की पूनम रॉयल आस्ट्रेलियन एयरफोर्स में शामिल

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • दावा-चंडीगढ़ की पहली महिला, जिन्होंने ये फोर्स जॉइन की
  •  हाल ही में पूरी की ट्रेनिंग

चंडीगढ़. चंडीगढ़ की रहने वाली पूनम गिरहा रॉयल ऑस्ट्रेलियन एयरफोर्स को ज्वाइन करने वाली देश की पहली महिला बन गई है। उनका कहना है कि यहां पर डिफेंस में मेल या फीमेल के तौर पर कोई भेदभाव नहीं है। आप पढ़िए और ट्रेनिंग के स्तर पार करते जाइए, तरक्की आपकी राह में है।

 

पूनम ने हाल ही में रॉयल ऑस्ट्रेलियन एयरफोर्स की ट्रेनिंग कंपलीट की है। वह फ्लाइंग से जुड़ी महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां निभाने जा रही हैं। उनका दावा है कि वह चंडीगढ़ से पहली महिला हैं जिन्होंने ये फोर्स ज्वाइन की है। इससे पहले भी भारत की कुछ महिलाएं रॉयल ऑस्ट्रेलियन एयरफोर्स की ग्राउंड ड्यूटी पर हैं। पूनम की 15 साल की बेटी ने भी कैडेट के तौर पर एयरफोर्स ज्वाइन कर ली है।

 

पूनम का जन्म चंडीगढ़ में हुआ। उनके पिता हरियाणा सचिवालय में नौकरी करते थे। पूनम पंजाब यूनिवर्सिटी से फिजिकल एजुकेशन मास्टर डिग्री लेने के बाद पब्लिक स्कूल में स्पोर्ट्स टीचर रहीं। 2001 में गुरदासपुर के कुलवंत सिंह गरहा से शादी के बाद वह 2008 में ऑस्ट्रेलिया शिफ्ट हो गई थीं।

 

पहले वह ब्रिसबेन एयरपोर्ट पर एविएशन प्रोटेक्शन ऑफिसर थीं। पंजाब पुलिस से रिटायर अपने ससुर सुखजिंदर सिंह गरहा की तरह वह भी सिक्योरिटी फोर्सेज ज्वाइन करना चाहती थीं। पति कुलवंत सिंह भी पंजाब पुलिस में ही रहे हैं। 2016 -2017 में उन्होंने वीआई पुलिस और क्वींसलैंड करेक्शन सर्विसेज में पुलिस कस्टडी ऑफिसर पद के लिए कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुईं।

 

पूनम ने उम्मीद नहीं छोड़ी और ऑस्ट्रेलियन एयरफोर्स के लिए कोशिश की। ये ट्रेनिंग आसान नहीं थी। कई बार लगा कि अब और नहीं हो पाएगा। अलग खाना, अलग कल्चर और ठंडा मौसम, ट्रेनिंग में लगभग 10 किलो वजन भी कम हुआ। जब भी घबराहट होती तो सोचतीं कि अगर ऑस्ट्रेलियन कर सकते हैं तो मैं क्यों नहीं। 

 

उनकी 15 साल की बेटी केवी ने भी रॉय ऑस्ट्रेलियन एयरफोर्स कैडेट के तौर पर ज्वाइन किया है जबकि छोटा बेटा सॉकर का खिलाड़ी है। पूनम कहती हैं कि उनके लिए इंस्ट्रक्टर्स के शब्द बड़ी प्रेरणा थे \"फेक इट अनटिल यू मेक इट. . .एंड वन डे यू विल मेक इट\"।