चंडीगढ़ / हाउसिंग सोसायटी बनाकर लोगों को ठगने वाले भगौड़े आरोपी को खूद पीड़ित ने अरेस्ट करवाया



डेमो फोटो डेमो फोटो
आरकेएम डायरेक्टर कंवलजीत सिंह की फाइल फोटो आरकेएम डायरेक्टर कंवलजीत सिंह की फाइल फोटो
X
डेमो फोटोडेमो फोटो
आरकेएम डायरेक्टर कंवलजीत सिंह की फाइल फोटोआरकेएम डायरेक्टर कंवलजीत सिंह की फाइल फोटो

  • आरोपी ने करीब 200 करोड़ रुपए का फ्रॉड किया हुआ है
  • आहलूवालिया के खिलाफ स्टेट कंज्यूमर फोरम चंडीगढ़ में याचिका दायर की थी

Dainik Bhaskar

Sep 15, 2019, 02:04 PM IST

मोहाली. सेक्टर-112 स्थित आरकेएम हाउसिंग लिमिटेड का भगोड़ा डॉयरेक्टर कंवलजीत सिंह आहलूवालिया को पीड़ित ने काफी मशक्कत के बाद पुलिस को अरेस्ट करवा दिया है। आरोपी कोर्ट की तरफ से भगौड़ा करार दिया जा चुका था और आरोपी ने करीब 200 करोड़ रुपए का फ्रॉड किया हुआ है।

 

सोहाना पुलिस ने आरोपी आहलूवालिया को डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में पेश कर तीन दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है। आरोपी को रिमांड खत्म होने पर पेश किया जाएगा।

 

बिना परमिशन के काट दिया प्रोजेक्ट, करोड़ों ठगे

पुलिस को दी शिकायत में सेक्टर-29 निवासी विशाल गुप्ता ने बताया कि उन्होंने अपनी मां राज रानी के नाम पर वर्ष 2011 में आरकेएम हाऊसिंग लीमिटिड सोसाइटी में आरोपी कंवलजीत सिंह आहलूवालिया से 200 गज का प्लॉट लिया था।

 

इस प्लॉट को आरोपी ने 13 हजार 800 रुपए प्रति गज के हिसाब से पैसे दिए। जिसकी कुल कीमत 27 लाख 60 हजार रुपए बनती है। उन्होंने प्लॉट की रकम अदा की थी।
 

18 महीने में देना था प्लॉट लेकिन कई सालों में नहीं दिया

पीड़िता विशाल गुप्ता ने बताया कि उनके पास आहलूवालिया के वह दस्तावेज भी पड़ेे हैं। जिसमें उन्होंने लिखा था कि 18 महीने के अंदर वह इस प्लॉट का पजेशन दे देंगेे। आरोपी ने उनसे उक्त पेमेंट भी ले ली थी। लेकिन कई साल बीत जाने के बाद भी न तो प्लॉट का पजेक्शन दिया और न पैसे वापिस कर रहे थे।

 

जब उन्होंने गमाडा से पता किया तो वह यह जानकार हैरान हो गए कि आरोपी बिल्डर आहलूवालिया के पास इस सेक्टर-112 के प्रोजेक्ट की परमिशन ही नहीं है। वह परमिशन के बिना ही लोगों को बेवकूफ बनाकर ठग रहा है। जिसके बाद वर्ष 2014 में उन्होंनें आहलूवालिया के खिलाफ स्टेट कंज्यूमर फोरम चंडीगढ़ में याचिका दायर की।

 

इसी साल अगस्त महीने में कोर्ट ने किया भगोड़ा करार

पीड़ित विशाल गुप्ता ने बताया कि इसी साल कंज्यूमर फोरम ने आरोपी आहलूवालिया को भगोड़ा करार दिया था। जिसके आर्डर सोहाना पुलिस स्टेशन को दिए गए थे। पीड़ित ने बताया कि आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर था।

 

इस पर एसएचओ ने पीड़ित को अपना नंबर देकर कहा कि पुलिस भी तलाश कर रही है और वह भी देखे। जैसे ही उनको आरोपी बारे कोई जानकारी मिलती है तो तुरंत एसएचओ को संपर्क करे। पीड़ित ने बताया कि वह रोजाना शाम के समय आरोपी के ऑफिस जाते थे। ताकि आरोपी को चेक किया जा सके।

 

गत शुक्रवार रात उन्होंने देखा कि आरोपी अपने सेक्टर-112 स्थित आरकेएम प्रोजेक्ट आफिस में बैठा हुआ है। उन्होंने उसी समय एसएचओ को फोन कर दिया और चंद मिनटों में खुद एसएअचो अपनी टीम के साथ वहां पहुंच गए और आरोपी आहलूवालिया को पकड़ लिया।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना