सोशल मीडिया / एक्सपर्ट बोले- मोबाइल पर ट्रैक हो रही है आपकी हर एक्टिविटी, इसकी अवेयरनेस स्कूल-कॉलेजों में जरूरी



Made aware of threats from mobile
X
Made aware of threats from mobile

  • सोशल मीडिया के लिए हो रहा है मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल
  • मोबाइल यूज करते बच्चों के दिमाग पर विपरीत असर की आशंका

Dainik Bhaskar

Jun 17, 2019, 10:39 AM IST

चंडीगढ़. लोग मोबाइल काॅल करने के लिए नहीं बल्कि सोशल मीडिया में एक्टिव रहने के लिए यूज करते हैं। यूटी चंडीगढ़ में रविवार को सेकंड ईनिंग एसोसिएशन की तरफ से मोबाइल डी एडिक्शन पर एक सेमिनार ली कार्बुजिए सेंटर सेक्टर-19 में करवाया गया। करीब 100 लोग इस सेमिनार में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे थे। यहां पर सेमिनार शुरू होने से पहले सभी से एक फाॅर्म एसोसिएशन की तरफ से भरवाया गया।

 

इसमें सभी ने अपने मोबाइल यूजेज को लेकर जानकारी दी। इस फाॅर्म में जो जानकारी दी गई उसमें मैक्सिमम लोगों ने माना की काॅल्स तो बहुत कम करते हैं लेकिन सोशल मीडिया को ज्यादा यूज करते हैं। कोई ज्यादा टाइम मैसेज पढ़ने में लगाता है तो कोई अपनों के साथ मैसेज के जरिए ही बातचीत कर लेते हैं।

 

ईवेंट में पंजाब यूनिवर्सिटी से असिस्टेंट प्रोफेसर एन्वायर्नमेंटल सोशोलाॅजी प्रोफेसर विनोद चौधरी व बाकी भी कई एक्सपर्ट्स शामिल हुए। एक्सपर्ट ने यहां पर मोबाइल फोन से होने वाले खतरों के बारे में बताया। इस बारे में एसोसिएशन प्रेसिडेंट आरके गर्ग ने कहा कि लोगों को आपस में बात करने का टाईम भी नहीं है तो इसके लिए अवनेयरनेस ज्यादा जरूरी है।

 

पीयू के प्रोफेसर विनोद चौधरी ने मोबाइल से होने वाले खतरों के बारे में बताया टेक्नोलाॅजी प्राइवेसी को खत्म कर रही है, सारी एक्टिविटी ट्रेक हो रही है, आप कहां जा रहे हैं, क्या सोचते हैं, किस तरह से आपकी सोच में बदलाव ला रहे हैं। यहां आए लोगों ने सवाल भी किया कि इसको कैसे रोका जा सकता है। इस पर जवाब दिया गया कि इसकी शुरुआत स्कूलों और काॅलेजों से ही करनी होगी। क्योंकि जो बच्चे इस वक्त से मोबाइल यूज कर रहे हैं उनको अगले 20-30 साल बाद इससे दिमागी तौर पर दिक्कत हो सकती है। इसलिए इसके लिए अवेयरनेस जरूरी है।

 

लोगों को बताया गया कि वे मोबाइल में कुछ भी लिखने के बजाए डायरी में लिखें जिससे दिमाग भी सही रहेगा और छोटे बच्चों को मोबाइल से दूर रखें और मोबाइल में गेम्स खिलाने के बजाए दूसरी एक्टिविटीज या फिर आउटडोर स्पोर्ट्स में शामिल करें।

COMMENT