चंडीगढ़ / रेड लाइट जंप के चालान के खिलाफ कोर्ट में लड़ा केस, मिली जीत

डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स
X
डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्सडिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स

  • पुलिस ने सेक्टर-34 के चौक पर विक्रम सिंह का चालान किया था 
  • लेकिन पुलिस रेड लाइट जंप के चालान को कोर्ट में साबित नहीं कर सकी

दैनिक भास्कर

Mar 16, 2020, 05:59 PM IST

चंडीगढ़. अटावा के रहने वाले विक्रम सिंह का 2017 में रेड लाइट जंप का चालान हो गया था। उन्होंने चालान नहीं भरा बल्कि पुलिस के खिलाफ कोर्ट में केस लड़ा। उन्हें ये बात साबित करने में तीन साल लग गए कि उन्होंने रेड लाइट जंप की थी या नहीं। लेकिन आखिरकार उनका केस कोर्ट में साबित हो गया और जज ने उन्हें ट्रैफिक चालान से बरी कर दिया। 


विक्रम ने बताया कि 2 फरवरी 2017 को वे सेक्टर-21 के पेट्रोल पंप से पेट्रोल भरवाकर वापस आ रहे थे। उन्होंने लेबर चौक से यूटर्न लिया, तभी सेक्टर-34 की तरफ उन्हें ट्रैफिक पुलिस ने रोक लिया। पुलिस ने कहा कि उन्होंने रेड लाइट जंप की है, जबकि उनका कहना था कि वे यूटर्न लेकर आएं हैं और उन्होंने सिग्नल जंप नहीं किया।

लेकिन पुलिस वाले उनकी बात मानने को तैयार ही नहीं थे। विक्रम ने बताया कि उस वक्त मौके पर इंस्पेक्टर कपिल देव भी खड़े थे और उनकी उनसे भी बहस हो गई। आखिर में उन्होंने पुलिस के खिलाफ आवाज उठाने का फैसला किया। उन्होंने कोर्ट में एप्लीकेशन फाइल की और ट्रैफिक चालान को कंटेस्ट किया। 


पुलिस ने कहा सीसीटीवी कैमरा खराब थे
पुलिस ने कोर्ट में कहा कि जिस समय विक्रम ने रेड लाइट जंप की तब वहां चौक पर लगे सीसीटीवी कैमरा काम नहीं कर रहे थे। लेकिन पुलिस ने कैमरा बंद होने का कोई स्पष्ट कारण कोर्ट को नहीं बताया। इसलिए पुलिस चालान को कोर्ट में साबित नहीं कर सकी। जज ने ऑर्डर में लिखा कि किसी भी ऑफेंस को साबित करने के लिए कुछ टूल्स होते हैं जैसे ओवर स्पीड के लिए स्पीडोमीटर व ड्रंकन ड्राइविंग के लिए एल्को सेंसर इस्तेमाल होते हैं। ऐसे में इस केस को साबित करने के लिए सीसीटीवी फुटेज अहम सबूत हो सकते थे जो पुलिस के पास नहीं थे।
 

इन कारणों से कमजोर पड़ा पुलिस का केस 

  1. पुलिस ने चालान स्लिप पर कटिंग कर रखी थी। पहले पुलिस ने येलो लाइट जंप पर निशान लगाया हुआ था जिसे काट कर रेड लाइट कर दिया गया।
  2. चालान 2 फरवरी 2017 को हुआ था जबकि पुलिस ने डेट 2 फरवरी 2018 लिख दी 
  3. विक्रम ने चालान के खिलाफ शिकायत दी जिसमें पुलिस ने खुद चालान काटने वाले इंस्पेक्टर कपिल देव को ही इंक्वायरी ऑफिसर बना दिया। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना