चंडीगढ़ / न पीआर वीजा दिलवाया न पेमेंट रिफंड की, कंज्यूमर फोरम ने इमीग्रेशन फर्म पर लगाया हर्जाना



डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम चंडीगढ़ डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम चंडीगढ़
X
डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम चंडीगढ़डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम चंडीगढ़

  • कंपनी को रिफंड के साथ-साथ 12 हजार रुपए और देने पड़ेंगे कस्टमर को 

Dainik Bhaskar

Sep 16, 2019, 01:06 PM IST

चंडीगढ़. कैनेडा में पीआर दिलवाने के नाम पर एक इमीग्रेशन फर्म ने कस्टमर से 33 हजार रुपए ले लिए। लेकिन न तो कस्टमर को पीआर दिलवाई और न ही उसका अमाउंट रिफंड किया। अब फर्म को न सिर्फ कस्टमर को रिफंड देना पड़ेगा बल्कि 12 हजार रुपए और चुकाने होंगे। डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर फोरम ने पंचकूला की मनीषा रानी की शिकायत पर सेक्टर-22 की ग्लोबल गेटवेज कंपनी के खिलाफ ये फैसला सुनाया है। 


मनीषा ने अपनी शिकायत में बताया था कि उन्होंने 14 फरवरी 2013 को कैनेडा में पीआर के लिए ग्लोबल गेटवेज से कॉन्टेक्ट किया था। उन्होंने पीआर वीजा को प्रोसेस करने के लिए 33 हजार 708 रुपए फीस जमा करवा दी। इस दौरान उन्होंने आइटलेट्स भी कंप्लीट कर ली। उन्होंने कंपनी से बात की और वीजा प्रोसेस बढ़ाने के लिए कहा।

 

इस पर कंपनी ने उन्हें आगे से जवाब दिया कि कैनेडा सरकार ने अपने नियमों में कुछ बदलाव किए हैं जिसके तहत मनीषा को पीआर वीजा नहीं मिल सका। इस पर मनीषा ने कंपनी से अपनी फाइल वापस मांगी और फीस रिफंड करने के लिए कहा। कंपनी ने उन्हें साफ जवाब दे दिया कि वे फाइल वापस नहीं दे सकते और न ही फीस रिफंड करेंगे। इस पर मनीषा ने कंपनी को लीगल नोटिस भेजा।

 

कंपनी ने जब नोटिस का जवाब नहीं दिया तो उन्होंने कंपनी के खिलाफ कंज्यूमर फोरम में शिकायत दी। कंपनी की तरफ से फोरम में कोई पेश नहीं हुआ। लिहाजा फोरम ने उन्हें एक्स-पार्टी करार दे दिया। फोरम ने मनीषा की शिकायत को सही ठहराते हुए कंपनी को 33 हजार 708 रुपए रिफंड करने के निर्देश दिए। इसके अलावा कंपनी पर 7 हजार रुपए हर्जाना लगाया और 5 हजार रुपए मुकदमा खर्च देने के लिए कहा। 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना