चंडीगढ़ / फिल्मसिटी चंडीगढ़ की ग्रोथ का नया इंजन: अनुपम खेर



New engine of growth of Film City Chandigarh: Anupam Kher
X
New engine of growth of Film City Chandigarh: Anupam Kher

  • किरण खेर दूसरी बार चंडीगढ़ से जीती हैं, चंडीगढ़ की डेवलपमेंट को लेकर उनसे क्या उम्मीद रखते हैं?
  • किरण मॉडर्न थिंकिंग लेडी हैं। मुझे भरोसा है कि वे चंडीगढ़ को अमेजिंग सिटी बनाने के लिए काम करेंगी। नतीजे जल्द ही आपके सामने होंगे।

Dainik Bhaskar

May 27, 2019, 06:13 AM IST

भास्कर एनिवर्सरी सीरीज के तहत अनुपम खेर के साथ विशेष बातचीत की विवेक अत्रेय ने। आईएएस अफसर अत्रेय चंडीगढ़ के डायरेक्टर आईटी और टूरिज्म भी रह चुके हैं। मोटिवेशनल स्पीकर, ऑथर और थॉट लीडर अत्रेय की खेर से बातचीत के अंश...

 

सवाल : अब वक्त आ गया है कि चंडीगढ़ की ग्रोथ के लिए बड़ा काम किया जाए? आप इस दिशा में क्या सोचते हैं?
जवाब : चंडीगढ़ की ग्रोथ के लिए यहां फिल्म सिटी डेवलप की जानी चाहिए। इससे न केवल टूरिज्म बढ़ेगा बल्कि बड़े लेवल पर इम्प्लॉयमेंट भी जेनरेट होगा। यहां वह सबकुछ मौजूद है जो फिल्मों की शूटिंग से लेकर उन्हें रिलीज करने तक चाहिए। यहां फिल्म सिटी के लिए ढेरों संभावनाएं हैं। पंजाबी फिल्म इंडस्ट्री बहुत अच्छे से ग्रो कर रही है और इसके साथ-साथ टेक्नोलॉजी ने इस दिशा में कई नए आयाम खोल दिए हैं। यही वजह है कि चंडीगढ़ और आसपास के क्षेत्रों में फिल्मों, गानों और सीरियल्स की शूटिंग चलती रहती है। प्रशासन ने करीब 15 साल पहले भी चंडीगढ़ में फिल्मसिटी बनाने की कोशिश की थी, लेकिन तब बात सिरे नहीं चढ़ सकी। अब इस ओर नए सिरे से कोशिश की जानी चाहिए। फिल्मसिटी से चंडीगढ़ और आसपास के इलाकों की इकोनॉमिक डेवलपमेंट भी होगी।
 

सवाल : फिल्म और थिएटर के प्रति लगाव कैसे बढ़ेगा?
जवाब :  मेरा जीवन शिमला से शुरू हुआ। पहाड़ में जिंदगी का संघर्ष अलग होता है, लेकिन चंडीगढ़ ऑर्गेनाइज्ड शहर है। पीयू की लाइब्रेरी और थिएटर में खूब अच्छा वक्त बीता। अब चंडीगढ़ बहुत बड़ा शहर हो चुका है, लेकिन क्वालिटी ऑफ लाइफ बरकरार है। मेरा मानना है कि चंडीगढ़ के स्कूलों-कॉलेजों में आर्ट, थिएटर, सिनेमा विषय के तौर पर पढ़ाना चाहिए, ताकि यह कल्चर के तौर पर पनप सके। एक्टिंग को अगर डेवलप करेंगे तो हम टैलेंट को सामने ला पाएंगे। चंडीगढ़ में इस क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। यह शहर मेट्रोज से कहीं बेहतर है। टीनएज और ग्रोइंग माइंड्स के लिए तो यहां बहुत अच्छा माहौल है।
 

सवाल : इलेक्शन में आप चंडीगढ़ की गली-गली घूमे, यहां सबसे बड़ी कमी क्या खलती है?
जवाब :  मैं इस शहर में लगातार नहीं रहता। कुछ दिनों के लिए यहां था, आता-जाता रहता हूं, इसलिए यह नहीं कह सकता कि यहां बड़ी कमियां क्या हैं? हां, अब यह शहर स्मार्ट सिटी बनने जा रहा है। भारत सरकार का यह बड़ा महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट है। चंडीगढ़ के मामले में तो फ्रंास और इंग्लैंड भी साथ हैं, उम्मीद है कि यह देश का सबसे अच्छा शहर बनेगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना