हाईकोर्ट / सुखबीर बादल और बिक्रमजीत मजीठिया को नोटिस जारी



Notice issued to Sukhbir Badal and Bikramjit Majithia.
X
Notice issued to Sukhbir Badal and Bikramjit Majithia.

  • जस्टिस रंजीत सिंह आयोग के लिए अपमानजनक टिप्पणियां करने की शिकायत पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने किया नोटिस जारी
  • जस्टिस अमित रावल ने मामले पर 29 मार्च के लिए तय की अगली सुनवाई, जस्टिस रंजीत सिंह के वकील एपीएस देयोल ने मुताबिक दोनों को कोर्ट ने पेश होने का नोटिस

Dainik Bhaskar

Mar 25, 2019, 07:43 PM IST

चंडीगढ़ (ललित कुमार). शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल और विधायक बिक्रमजीत सिंह मजीठिया द्वारा जस्टिस रंजीत सिंह आयोग के लिए अपमानजनक टिप्पणियां करने की शिकायत पर सोमवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने दोनों नेताओं को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। जस्टिस अमित रावल ने मामले पर 29 मार्च के लिए अगली सुनवाई तय की है। जस्टिस रंजीत सिंह के वकील एपीएस देयोल ने कहा कि दोनों नेताओं को कोर्ट ने पेश होने के लिए नोटिस जारी किया है।

 

इससे पहले कोर्ट ने दोनों नेताओं के पेश न होने पर जमानती वारंट जारी कर दिए थे। बाद में दोनों की तरफ से वकील अशोक अग्रवाल ने पेश होकर कहा कि उन्हें नोटिस तामील नहीं हुए हैं। इस पर कोर्ट ने वारंट जारी करने का फैसला वापस लेते हुए 29 मार्च को सुनवाई तय कर दोनों को पेश होने को कहा है। गौरतलब है कि पंजाब सरकार ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटनाओं और बेहबल कलां गोलीकांड की जांच के लिए जस्टिस रंजीत सिंह आयोग का गठन किया था।

 

शिकायत में कहा गया कि सुखबीर बादल और बिक्रमजीत मजीठिया ने उन पर व्यक्तिगत तौर पर टिप्पणियां की और उनके जांच आयोग पर उंगली उठाई। कमीशन ऑफ इंक्वायरी एक्ट की धारा 10 ए के तहत कमीशन अथवा इसके किसी सदस्य के खिलाफ सम्मान न करने वाले बयान देने पर कंप्लेंट दायर की जा सकती है। इसमें छह माह का साधारण कारावास और जुर्माना अथवा दोनों की सजा का प्रावधान है। हाईकोर्ट इन मामलों में स्वयं संज्ञान भी ले सकता है और आयोग की तरफ से लिखित में कंप्लेंट दिए जाने पर कार्रवाई करने का अधिकार रखता है।


 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना