चंडीगढ़ / अब शहर में चलाई जाने वाली पीजी के लिए फायर एनओसी जरूरी, चेकिंग के लिए टीमें गठित

जिस पीजी में आग लगी थी उसमें रहने वाली सभी लड़कियों ने पीजी खाली कर दिया है जिस पीजी में आग लगी थी उसमें रहने वाली सभी लड़कियों ने पीजी खाली कर दिया है
X
जिस पीजी में आग लगी थी उसमें रहने वाली सभी लड़कियों ने पीजी खाली कर दिया हैजिस पीजी में आग लगी थी उसमें रहने वाली सभी लड़कियों ने पीजी खाली कर दिया है

  • तीन लड़कियों की मौत के बाद प्रशासन को आया होश, शुरू की सख्ती
  • चेकिंग के लिए 3 टीमें बनाईं, पीजी की हर साल होगी जांच

दैनिक भास्कर

Feb 25, 2020, 12:15 PM IST

चंडीगढ़. सेक्टर-32 के पीजी में आग लगने और तीन युवतियों की मौत की दर्दनाक घटना के बाद सोमवार को प्रशासन की तरफ से कार्रवाई शुरू की गई। डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने सुबह ही तीनों सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) और संबंधित अफसरों की मीटिंग बुलाई। तीनों एसडीएम से कहा कि अपने-अपने एरिया में जितने भी पीजी चल रहे हैं, उनकी चेकिंग करवाएं। इसके लिए एसडीएम ऑफिस, बिल्डिंग ब्रांच और इस्टेट ऑफिस के स्टाफ की तीन टीमें बनाई गई हैं। वहीं, पीजी रजिस्ट्रेशन के लिए फायर एनओसी जरूरी कर दी गई है। साथ ही रेगुलर फायर इंस्पेक्शन उन बिल्डिंग्स में होगी, जिनमें पीजी चलाए जा रहे हैं। अब सभी ब्रांच हेड्स को कहा गया है कि अपने एरिया के पीजी की लिस्टें फाइनल कर सबमिट करें।

करीब 15 से ज्यादा घरों में चल रहे थे बिना परमिशन के पीजी, सभी को थमाए नोटिस
सेक्टर-32 में हुए दर्दनाक हादसे के बाद सोमवार को डीसी ने ऑफिसर्स के साथ मीटिंग की। इसके बाद देर शाम तीनों एसडीएम की प्रमुखता में बनी तीन टीमों ने अलग-अलग सेक्टरों में चेकिंग की। ये चेकिंग अब डोर टू डोर शुरु की गई है। एसडीएम ईस्ट की प्रमुखता में बनी टीम ने सेक्टर-7 में, एसडीएम सेंट्रल की प्रमुखता में बनी टीम ने सेक्टर-8 में और एसडीएम साउथ की प्रमुखता में बनी टीम ने सेक्टर-34 में चेकिंग की।

चेकिंग में खुलासा बिना मंजूरी चल रहे पीजी

चेकिंग में खुलासा हुआ कि घरों में बिना मंजूरी और बगैर सेफ्टी के पीजी चलाए जा रहे हैं। पहले ही दिन करीब 15 से ज्यादा मकानों में अवैध तरीके से चलाए जा रहे पेइंग गेस्ट को लेकर पता चला है। इसको लेकर परमिशन कहीं से नहीं ली गई है। सभी को नोटिस टीमों की तरफ से थमाए गए हैं, जिसमें या तो मकान को खाली करवाने या फिर पीजी रजिस्टर्ड करवाने और बच्चों की सुरक्षा के लिए इंतजाम करने के लिए कहा गया है।

अवैध पीजी की शिकायत करें

अवैध पीजी की 1860-1802067 पर करें शिकायत : लोग अवैध पीजी को लेकर शिकायत कर सकें, इसके लिए इस्टेट ऑपिस ने हेल्पलाइन नंबर 1860-1802067 शुरू किया है। सुबह 8 से शाम 8 बजे तक सोमवार से शनिवार काॅल कर सकते हैं।
 

शिकायत पर एसडीएम को दो दिन में करनी होगी कार्रवाई
इस काॅल सेंटर को आगे तीनों एसडीएम के साथ कनेक्ट किया गया है। जिस भी एरिया को लेकर शिकायत आएगी, वह आगे इस काॅल सेंटर से संबंधित एसडीएम के पास भेज दी जाएगी। एसडीएम शिकायत को अगले दो दिनों में वेरिफाई करेंगे और अगर शिकायत सही मिलती है तो फौरन इस पर कार्रवाई की जाएगी। इसमें नोटिस और बिल्डिंग को सील भी किया जा सकता है।

रिन्यू करने के लिए हर साल अप्लाई करना होगा

अवैध पीजी के बजाय लोग रजिस्ट्रेशन करवाएं और परमिशन लेकर सुरक्षा को लेकर सभी तरह के इंतजाम कर सकें, इसके लिए रजिस्ट्रेशन प्रोसेस आसान किया जाएगा। डीसी ने इस्टेट ऑफिस को निर्देश दिए हैं कि पीजी की रजिस्ट्रेशन वन टाइम नहीं होगी, बल्कि इस पर हर साल रिन्यूअल जरूरी होगी। जिन लोगों ने पीजी रजिस्टर्ड करवाए हुए हैं, उन्हें हर साल रिन्यूअल के लिए अप्लाई करना होगा। इसके बाद फिजिकल इंस्पेक्शन होगी और उसके बाद ही रजिस्ट्रेशन रिन्यूअल हो पाएगी। ताकि एक बार रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद उस मकान में वाॅयलेशन न हो।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना