कोरोनावायरस / पोस्टर फाड़ खुले घूम रहे विदेश से आए लोग, लोगों में भरा गुस्सा

सिंबोलिक इमेज सिंबोलिक इमेज
X
सिंबोलिक इमेजसिंबोलिक इमेज

  • कोरोना वायरस के खतरे को टालने के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग ने 275 लोगों को होम क्वारंटाइन किया है
  • गांव अभयपुर में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने के बावजूद गलियों में लोगों का जमावड़ा लगा हुआ है

दैनिक भास्कर

Mar 24, 2020, 01:57 PM IST

पंचकूला. शहर में विदेश से आए लोगों के घर के बाहर लगाए गए होम क्वारंटाइन के पोस्टर परिजनों की ओर से फाड़ने और घर से बाहर इनके घूमने पर लोगों में गुस्सा पनप रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से लोगों को सतर्क रहने के लिए यह पोस्टर लगाए गए थे।

सेक्टर 4, 9, 10, 11, 19 अमरावती सहित कई अन्य सेक्टरों में विदेशों से लोग वापस आए हैं। स्वास्थ्य विभाग को जैसे ही इनके वापस आने की सूचना मिली, तो इनके घरों के बाहर पोस्टर लगा दिए गए। इन पर कोई सख्ती न किए जाने से इन घरों के आसपास रहने वाले लोगों में दहशत बनी हुई है।

लोगों का कहना है कि यह एक तरह के खुले बम प्रशासन ने छोड़ दिए हैं, जोकि किसी की बात सुनने को तैयार नहीं हैं। कोरोना वायरस के खतरे को टालने के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग ने 275 लोगों को होम क्वारंटाइन किया है। इन्हें घर पर ही रहने और किसी को घर में आने या जाने न देने की सलाह दी गई है।

कुल 19 लोगों ने 28 दिन पूरे कर लिए हैं, जोकि बिल्कुल स्वस्थ हैं जबकि 13 लोग सिविल अस्पताल, सेक्टर 6 के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं। कुल 307 लोग हैल्थ डिपार्टमेंट के अंडर सर्विसेंस हैं। कुल 32 लोगों के सेंपल लिए गए जिनमें से 18 लोगों के सैम्पल नेगेटिव आए हैं और 13 लोगों के सेम्पल का रिजल्ट आना बाकी है।

हाउस ओनर वेलफेयर एसोसिएशन सेक्टर 10 के चेयरमैन भारत हितैषी ने बताया कि सेक्टर-10 में कुछ लोगों के घरों के बाहर पोस्टर लगे हुए थे, लेकिन मौका देखते ही इन लोगों ने पोस्टर फाड़ दिए गए हैं। शनिवार को भी इन घरों में रहने वाले लोग गलियों में खुलेआम घूम रहे थे। साथ ही मार्केट में भी खरीदारी करने गए।

यह इसलिए घातक है क्योंकि कोरोना वायरस का पता एकदम नहीं लगता। कुछ दिनों बाद यह वायरस शरीर पर कब्जा कर लेता है। ऐसे में यह लोग भी अभी ठीक नजर आ रहे हैं, लेकिन दो-चार दिन बाद वायरस दूसरों में फैला चुके होंगे। इसका खामियाजा शहर के लोगों को भुगतना पड़ेगा।

सेक्टर 19 के अंकुर गुलाटी ने बताया कि उनकी सेक्टर में भी एक महिला हाल ही में अमेरिका से वापस आई थी। इनके घर के बाहर भी पोस्टर लगाया हुआ था, लेकिन महिला के परिजनों ने यह पोस्टर फाड़ दिया है। महिला गलियों में घूम रही है। अब लोग घर के बाहर आने से भी घबराने लगे हैं। इस संबंध में अंकुर गुलाटी ने जिला उपायुक्त, पुलिस उपायुक्त और सिविल सर्जन को सूचना दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

गांव अभयपुर में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने के बावजूद गलियों में लोगों का जमावड़ा लगा हुआ है। इससे वायरस के फैलने का खतरा बढ़ गया है। लोग लगातार पुलिस को इस बारे में सूचना दे रहे हैं, लेकिन कोई कार्रवाई ना होने के चलते लोगों में गुस्सा है। गांव के पूर्व पार्षद सुभाष निषाद ने बताया कि अभयपुर के लोगों को लगातार समझा रहे हैं कि कोरोना वायरस क्या है। इससे किस तरह का खतरा हो सकता है, लेकिन उसके बावजूद लोगों पर कोई असर नहीं है।


उन्होंने पुलिस उपायुक्त और डीसी से गुहार लगाई है कि वह तुरंत पुलिस की तैनाती करें, ताकि कोई भी करोना वायरस का संदिग्ध इन लोगों में ना हो और किसी तरह का खतरा पैदा हो। वहीं सेक्टर 19 में एक परिवार के अमेरिका से वापस लौटने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने बोर्ड लगाकर अपना पल्ला झाड़ लिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना