मौसम / 36 घंटे में 110.3 एमएम बारिश, नदियों के पानी से कई गांव डूबे, पशु बहे, कुराली में तीन मकान गिरे



X

  • बारिश से गिरा 3 डिग्री तापमान, आज मौसम साफ होने के आसार
  • नदी में ही बिल्डरों ने काटे थे प्लॉट, कहते थे-कोई डर नहीं...
     

Dainik Bhaskar

Aug 19, 2019, 11:39 AM IST

चंडीगढ़. पिछले चार दिन से हो रही बारिश ने सबसे ज्यादा नुकसान मोहाली जिले में पहुंचाया है। मुल्लांपुर के आसपास के गांव, कुराली, खरड़, डेराबस्सी में नदियां ओवरफ्लो हो गई हैं। कई गांव डूब गए हैं। सामान खराब हो गया तो पशु बह गए हैं। रास्ते कट चुके हैं। कुराली में तीन मकान तेज बहाव में गिर गए। कई घर गिरने वाले हैं।

 

बारिश के चलते रेल यातायात प्रभावित हुआ। कालका-शिमला रेलमार्ग पर चलने वाले टॉय ट्रेन बाधित हुईं। मौसम विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के मुताबिक सोमवार को आंशिक बादल छा सकते हैं। हल्की बूंदाबांदी होने की आशंका है। विभाग के अनुसार 21 अगस्त के बाद बारिश होने की संभावना है।

 

आगे ऐसा रहेगा मौसम
सोमवार: आंशिक बादल छा सकते हैं। बीच-बीच में धूप निकलने के आसार हैं। दिन का अधिकतम तापमान 31 और न्यूनतम तापमान 25 डिग्री रह सकता है। एयरपोर्ट पर 116.4 एमएम बारिश दर्ज की गई।

 

कुराली की सिसवां नदी पर डैम बना हुआ है, जिस कारण सालों से इस नदी में पहाड़ी पानी का आना बंद था। पानी डैम में ही इकट्ठा होता था। ज्यादा पानी आने की वजह से डैम से पानी छोड़ दिया गया। इसका असर रहा कि आसपास के गांवों में पानी भर गया।

 

1998 में भी ऐसे ही पानी आया था और पूरे शहर में तबाही मचाई थी। 21 साल बाद पानी ने तबाही मचाई है। इन बीच के सालों में पानी न आने के चलते नदी की जमीनों को भू-माफिया ने जायज और नाजायज तरीके से अपने नाम किया और कॉलोनियां काट दी। कॉलोनियों को अधिकारियों से बचाने के लिए मंदिर भी बना दिए गए और नदी के लिए छोटा सा रास्ता छोड़ दिया गया और अपने एरिया में दीवार बना दी गई। लेकिन 21 साल बाद गत रात इतना पानी आया कि नदी किनारे मकान धराशाही होने लगे।

 

सिसवां डैम से छोड़ा 9 क्यूसिक पानी
सिसवां डैम में जलस्तर अधिक हो जाने के कारण सिंचाई विभाग द्वारा करीब साढ़े 9 क्यूसिक पानी छोड़ा गया है लेकिन पहाड़ी क्षेत्रों के पानी के बहाव के कारण निरंतर डैम का लेवल बढ़ता ही जा रहा है। इस डैम के पानी छोड़े जाने के कारण आसपास के गांवाें में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई। आसपास के क्षेत्रों में दर्जनों गावों में पानी घुस गया व तबाही मचाई। कई गावों का अन्य गांवों के संपर्क से टूट गए।

 

सिंचाई विभाग के अधिकारी के अनुसार विभागीय हिदायतों के अनुसार सिसवां डैम का लेवल 375.600 मीटर क्राॅस हो जाने पर पानी छोड़ना जरूरी होता है। जो लेवल गत शाम 5 बजे क्राॅस कर जाने के कारण साढ़े 9 क्यूसिक पानी छोड़ा गया था।

 

इस पानी को छोड़े जाने से पहले कैचमैंट एरिया के गांवों में अनाउंसमेंट करवाई गई थी। बरसात इतनी ज्यादा रही कि रात भर पानी छोड़े जाने के बावजूद सुबह डैम का लेवल 378.200 मीटर तक पहुंच गया था, जो अब रविवार शाम को 378.100 हुआ है। अभी भी डैम का लेवल अप है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना