चंडीगढ़ / पीयू ने सीनेट के ओपन एजेंडा में दी सेक्सुअल हैरासमेंट की शिकायत



PU gave sexual harrasment complaint in Senate's open agenda.
X
PU gave sexual harrasment complaint in Senate's open agenda.

  • 22 अगस्त को होनी है मीटिंग
  • पूर्व वाइस चांसलर के खिलाफ है शिकायत

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 12:52 PM IST

चंडीगढ़. पंजाब यूनिवर्सिटी ने 22 अगस्त को होने जा रही सीनेट की मीटिंग के एजेंडा में सेक्सुअल हरासमेंट की शिकायत और इस पर हुई सारी डिस्कशन को ओपन एजेंडा में भेज दिया है। यह एजेंडा 91 मेंबर्स के अलावा सभी अधिकारियों के पास जाता है और मीटिंग के दौरान इसकी प्रति मीडिया में भी दी जाती है।

 

आमतौर पर ऐसे मामलों में सीलबंद लिफाफे में कागज भेजे जाते हैं लेकिन यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इसको ओपन एजेंडा में भेज दिया है। इसके यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च स्कॉलर ने आरोप लगाया है कि पूर्व वाइस चांसलर प्रो. अरुण ग्रोवर ने सेक्सुअल हैरेसमेंट के मामले में यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर दंपत्ति के बेटे का फेवर किया।

 

दबाव बनाने के लिए उसकी पीएचडी एनरोलमेंट कैंसिल कर दी। प्रिवेंशन एंड प्रोहिबिशन ऑफ सेक्सुअल हरासमेंट ऑफ वुमन एट वर्क एक्ट के अनुसार उनकी यह हरकत सेक्सुअल हैरासमेंट के दायरे में ही आती है। उन्होंने यह शिकायत चांसलर को की थी। चांसलर ऑफिस ने यूनिवर्सिटी से इस बारे में जवाब तलब किया था।

 

सिंडीकेट ने इस पर डिस्कशन किया और चांसलर ऑफिस को स्वयं इस मामले में डिसीजन लेने के लिए कहा है क्योंकि पूर्व वाइस चांसलर अब यूनिवर्सिटी के इम्प्लॉई नहीं है। उन्होंने युवती की शिकायत की प्रति जस की तस चांसलर ऑफिस से आई लेटर्स और डिस्कशन को एजेंडा में शामिल कर लिया है।

 

यह पहली बार नहीं है जब यूनिवर्सिटी ने ऐसा किया हो इससे पहले भी इसी पर सेक्सुअल हरासमेंट का आरोप लगाने वाली महिला प्रोफेसर के नाम का खुलासा भी वेबसाइट पर मीटिंग ऑफ मिनट के जरिए कर दिया गया था और बकायदा इसके लिए प्रेस नोट भी जारी कर दिया गया था। इसके बाद उक्त युवती की शिकायत में भी नाम का खुलासा कर दिया गया है लेकिन दोनों ही मामलों को सहमति से दबा दिया गया।

 

कानूनी तौर पर शिकायतकर्ता की पहचान नहीं खुलनी चाहिए। पंजाब यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार प्रो. करमजीत सिंह का कहना है कि युवती ने ओपन लेटर के जरिए ही शिकायत की थी। डिस्कशन के बाद रिसाॅल्व पार्ट को सीनेट के सामने रखना जरूरी था इसलिए एजेंडा में इसे शामिल किया गया। पीयू ने 22 अगस्त को होने जा रही सीनेट की मीटिंग के एजेंडा में सेक्सुअल हरासमेंट की शिकायत और इस पर हुई सारी डिस्कशन को ओपन एजेंडा में भेज दिया है।
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना